प्लास्टिक के बैग पर एक लाख का चालान

पंजाब में राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड-स्थानीय निकाय विभाग ने संयुक्त रूप से किया 500 दुकानों का औचक निरीक्षण

चंडीगढ़- तंदुरुस्त पंजाब मिशन के अंतर्गत राज्य में प्लास्टिक के लिफाफों के प्रयोग के निरीक्षण के मद्देनजर पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड और स्थानीय निकाय विभाग द्वारा सांझे तौर पर राज्य स्तरीय छापेमारियां की गई, यह जानकारी मिशन तंदुरुस्त पंजाब के डायरैक्टर के एस पन्नू ने दी। इस संबंधी और जानकारी देते हुए पन्नू ने बताया कि करीब 500 दुकानों, इकाइयों में ऐसी अचानक छापेमारियां की गई , जिसके दौरान 200 उल्लंघना के मामले सामने आए। इस दौरान मौके पर ही एक लाख रुपए के जुर्माने किए गए और 179 चालान भी किए गए। उन्होंने बताया कि 4000 किलो के करीब प्लास्टिक के लिफाफे इन छापेमारियों के दौरान जब्त किये गए, जिनमें से 1100 किलो लिफाफे अकेले जिला फतेहगढ़ साहिब से ही बरामद हुए। पंजाब प्लास्टिक कैरी बैग, उत्पादन, प्रयोग और डिस्पोजल, कंट्रोल एक्ट 2005 के सेक्शन-सात के सब-सेक्शन-दो के मुताबिक पंजाब सरकार द्वारा पहले ही 1 अप्रैल, 2016 से राज्य की सभी निगमों, म्यूनिसिपिलिटी काउंसिलों, नगर पंचायतों और ग्राम पंचायतों में प्लास्टिक के लिफाफे के उत्पादन, बिक्री, वितरण, रिसाइकलिंग और प्रयोग पर रोक लगाई जा चुकी है। म्यूनिसिपिलिटी निगमों के कमिश्नर, पंचायत सचिव या नगर विकास अफसर अपने कार्य क्षेत्राधीन आते इलाकों में संबंधित मामले पर कार्रवाई करने के लिए समर्थ हैं। उन्होंने यह भी बताया कि पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड ऐसे प्लास्टिक कैरी बैग का उत्पादन या जमाखोरी करने वाली इकाइयों के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए समर्थ है। मिशन डायरैक्टर ने बताया कि यह देखा गया है कि रोक के बावजूद पंजाब में प्लास्टिक कैरी बैग का प्रयोग धड़ल्ले से जारी है, जोकि कानून का उल्लंघन है। इसलिए पंजाब में प्लास्टिक कैरी बैग के उत्पादन, जमाखोरी, वितरण, रीसाइकलिंग, बिक्री और प्रयोग संबंधी लगाई रोक की सख्ती से पालना करवाने को यकीनी बनाने हेतु एक विशेष मुहिम की शुरुआत की गई है। पंजाब प्लास्टिक कैरी बैग  कंट्रोल एक्ट-2005 की पालना की अपील करते हुए श्री पन्नू ने कहा कि पंजाब के सीएम द्वारा दी हिदायतों के मुताबिक राज्य में बड़े स्तर पर छापेमारियां करना अब समय की मांग है जिससे प्रदूषण संबंधी कानून की पालना की जा सके।

You might also like