फाइनल में एंट्री को छिड़ी सुरों की जंग

हिमाचल की आवाज-2019 के सेमीफाइनल में तीन जिलों के प्रतिभागियों ने दिखाया हुनर

सुंदरनगर –प्रदेश के अग्रणी मीडिया ग्रुप ‘दिव्य हिमाचल’ द्वारा आयोजित हिमाचल की आवाज-2019 के सेमीफाइनल का आगाज बुधवार से हो गया है। मंडी जिला के सुंदरनगर स्थित महावीर पब्लिक स्कूल में सजे शानदार मंच पर बुधवार को गीत संगीत के खूब तराने गूंजे। दिव्य हिमाचल के मंच पर हिमाचल की आवाज के होनहारों के पहुंचते ही सुंदरनगर की वादियां स्वरों की मधुर ध्वनियों से गूंज उठीं। इस अवसर पर  प्रतिभागियों ने हिमाचली फोक और बालीवुड  हिंदी के नए और पुराने गाने  निर्णायक मंडल के समक्ष पेश किए। हिमाचल प्रदेश के तीन जिलों से पहुंचे होनहारों ने अपनी आवाज के जादू से सबका मन मोह लिया। हिमाचल की आवाज के सेमीफाइनल के पहले दिन ऊना, सोलन ओर शिमला जिला के कलाकारों के बीच फाइनल में प्रवेश के लिए स्वरों की जंग छिड़ी। इन जिलों से जूनियर और सीनियर वर्ग में अपने-अपने जिला की आवाज बनने के लिए जोरदार मुकाबला देखने को मिला। वहीं सुरों के आगाज से पहले सेमीफाइनल का उद्घाटन महावीर पब्लिक स्कूल की चेयरपर्सन अनुराधा जैन और जजेज ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदेश के होनहारों को मंच उपलब्ध करवाने में ‘दिव्य हिमाचल मीडिया गु्रप’ के प्रयासों में महावीर पब्लिक स्कूल भी भागीदार बनकर गौरवान्वित महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन हिमाचल की प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का अवसर प्रदान कर रहे हैं। वहीं इस अवसर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य डाक्टर रोशन लाल बाली और मिसेज हिमाचल की फाइनलिस्ट ज्योति महाजन भी विशेष रूप से उपस्थित रहीं, जबकि निर्णायक मंडल में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक कन्या आदर्श पाठशाला सुंदरनगर की म्यूजिक टीचर ललिता बंगिया और नीलम मेहता ने सेमीफाइनल के इस इवेंट में स्वर परीक्षा की परख की। पहले दिन सजे ‘दिव्य हिमाचल’ के इस मंच को सफल बनाने के लिए महावीर पब्लिक स्कूल की ओर से स्टाफ में अनिता शर्मा, बिंता देवी चेतना कपूर कौरा के अलावा गैर शिक्षक स्टाफ में बिंद्रा, मीरा समेत अन्य तमाम स्टाफ  का पूरा सहयोग रहा।

जजेज ने स्वर परीक्षा पर दिए टिप्स

निर्णायक मंडल में ललिता और नीलम मेहता ने सेमीफाइनल इवेंट के प्रतिभागियों को इस अवसर पर स्वर परीक्षा के टिप्स दिए और आह्वान किया कि इस तरह के कार्यक्रमों में शामिल होने से पहले बच्चों को अपनी स्वर परीक्षा पर जोर देना चाहिए। उन्होंने एक अच्छे संगीतज्ञ से शिक्षा ग्रहण करके क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

पंजाब की आवाज हंसराज ने छेडे़ तराने

इस अवसर पर पंजाब की आवाज बने हंसराज ने ‘दिव्य हिमाचल’ के मंच पर अपने संगीत से सभागार में बैठे लोगों का खूब मनोरंजन किया और एक के बाद एक धमाकेदार प्रस्तुतियां पेश करके संगीत की इस महफिल में चार चांद लगा दिए।

गोगी बैंड ने दिया प्रतिभागियों का साथ

गोगी बैंड की टीम ने अपने वाद्य यंत्रों की धुनों पर शिमला, सोलन और ऊना के प्रतिभागियों को संगीत प्रस्तुत करने के लिए सहयोग किया। गोगी बैंड की टीम ने आपसी समन्वय स्थापित कर ढोल नगाड़ा की धुनों पर प्रतिभागियों के गीतों पर पूरा संगीत का तान बिखेर दिया।

You might also like