फोर्टिस में घुटना रिप्लेसमेंट सर्जरी आसान

कांगड़ा—फोर्टिस अस्पताल कांगड़ा की घुटना रिप्लेसमेंट तकनीक ने इस सर्जरी को बिलकुल सामान्य सर्जरी में तबदील कर दिया है। पहले जहां घुटना रिप्लेसमेंट का मरीज सप्ताह तक मरीज बिस्तर से हिल नहीं पाता था। वहीं फोर्टिस कांगड़ा में मरीज अगले ही दिन न केवल चलना शुरू कर देता है, बल्कि सीढि़यां चढ़ने-उतरने में भी सक्षम हो जाता है। पहले जहां मरीजों को कष्टदायक दर्द सहन करना पड़ता था। वहीं अब सर्जरी भी पेनलैस हो रही है और रिकवरी में दर्द नहीं। हालांकि इस स्तर की घुटना रिप्लेसमेंट सर्जरी फोर्टिस अस्पताल कांगड़ा सहित देश के चुनिंदा अस्पतालों में ही उपलब्ध है। अस्पताल में उपचाराधीन करीब आधा दर्जन मरीजों ने इस बारे में अपने विचार साझा किए। मरीज धनी राम ने कहा कि घुटना रिप्लेसमेंट सर्जरी से पहले हालांकि कई तरह की शंकाएं थीं, लेकिन सर्जरी के बाद सब शंकाएं निराधार साबित हुईं। सर्जरी के दिन ही घुटने का मुड़ना संभव था। वहीं धर्मशाला के तिलक राज ने कहा कि वह पिछले दस सालों से घुटनों के दर्द से पीडि़त थे और एक असहाय व्यक्ति की तरह जीवन जी रहे थे। उन्होंने कहा कि वह घुटनों के दर्द से तो कराहते ही थे, लेकिन साथ ही छोटी से छोटी चीज के लिए भी परिवार पर आश्रित रहना पड़ता था।  जैसे ही उन्हें फोर्टिस अस्पताल कांगड़ा की घुटना रिप्लेसमेंट सर्जरी तकनीक के बारे में पता चला, तो उन्हें विश्वास होने लगा कि यह तकनीक वाकई में कारगर है और इसके परिणाम तो लाजवाब हैं। उन्होंने कहा कि फोर्टिस कांगड़ा में घुटना रिप्लेसमेंट के बाद अब ऐसा लग रहा है कि मानों जिंदगी में फिर से रफ्तार दौड़ गई है। उन्होंने कहा कि यह सर्जरी परंपरागत सर्जरी तकनीक से बहुत ही एडवांस है, जिसमें न तो खून चढ़ाने की जरूरत हुई और न ही दर्द। और तो और 24 घंटे में ही उन्होंने चलना-फिरना शुरू कर दिया। डा. पीवी कैले ने घुटनों रिप्लेसमेंट सर्जरी पर कहा कि इस सर्जरी में एक छोटा सा चीरा लगाया गया है, इस दौरान मरीज की कोई भी मस्सल व नस नहीं काटी गई और खून का रिसाब भी बहुत कम होता है, जिससे मरीज को खून चढ़ाने की भी जरूरत नहीं पड़ी। उन्होंने बताया कि यह सर्जरी पूरी तरह से जोखिम रहित है और इसके नतीजे बहुत प्रभावी हैं।

 

You might also like