बैरंग लौटे पशुपालक

मैहला -पशुपालन विभाग चंबा के पशु औषाधालयों में पिछले आठ महीनों से नाइट्रोजन गैस की सप्लाई नहीं हो पा रही है। जिस कारण पशुओं के कृत्रिम गर्भाधान की प्रक्त्रिया बिल्कुल ठप्प होकर रह गई है। पशु औषधालयों में पशुओं के कृत्रिम गृभाधान हेतु पहंुचने वाले पशुपालकों को बैरंग लौटना पड रहा है। जानकारी के अनुसार ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में लोगों ने दुग्ध व्यवसाय को मुख्य पेशा बना रखा है। जिसके चलते लोगां ने अच्छी नस्ल व मंहगी प्रजाति की गायें रखी हुई है। जिन्हें मात्र कृत्रिम गर्भाधान के जरिए गर्भधारण करवाया जा सकता है। मगर पशु औषधालयों में नाइट्रोजन गैस की आपूर्ति न होने से पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान नहीं हो पा रहा है। जिस कारण पशुपालकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है।    उधर, पशुपालन विभाग के डा. विवेक गुप्ता का कहना है इस वक्त पूरे जिले में किसी भी पशु ओषधालय में गैस की आपूर्ति नही हो पा रही है, क्योंकि जिस कंपनी के साथ सप्लाई आर्डर है वे सप्लाई देने से मना कर रही है। जिस कारण ये समस्या उत्पन्न हुई है। उन्होंने बताया कि नाइट्रोजन गैस की सप्लाई की उपलब्धता को लेकर विभाग प्रयासरत है। जल्द ही पशुपालकों की इस समस्या का हल कर दिया जाएगा। बहरहाल, जिला के पशु औषधालयों में नाइट्रोजन गैस की सप्लाई न होने से पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान की प्रक्त्रिया ठप्प होने से पशुपालकों को मुश्किलें पेश आ रही हैं।

You might also like