बोगधार मेले में नाटियों पर धमाल

संगड़ाह—विजट देवता की स्मृति में आयोजित होने वाले तीन दिवसीय बोगधार मेले की आखिरी सांस्कृतिक संध्या में दर्शक शिमला जिला से संबंध रखने वाले लोकगायक सुरेश शर्मा तथा सिरमौरी नाटी गायक सुरजन सिंह आदि की प्रस्तुतियों पर दर्शक जमकर थिरके। लोक कलाकार सुरेश शर्मा द्वारा अपने कार्यक्रम का आगाज मां दे मंदिर जाणा नामक भक्ति गीत से किया गया तथा इसके बाद पाणी री टांकी नामक मशहूर नाटी से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। शिमला जिला के ठियोग के उक्त कलाकार की नाटी भाई री साली,  तूए लागो जिओ दी व ईरा लाडि़ए तोएं शूणी आदि पर युवा मेलार्थी जमकर थिरके। संगड़ाह से संबंध रखने वाले सिरमौरी गायक सुरजन सिंह ठाकुर द्वारा घीओ री लोटकी नामक पारंपरिक सिरमौरी नाटी गीत से कार्यक्रम का आगाज किया गया तथा इसके बाद देणा खोड़ा रे नामक भरतरी गाथा से वाहवाही लूटी। अंतिम संध्या में लोक कलाकार सुमन, दलीप चौहान, पूनम व डिंपल आदि द्वारा प्रस्तुत नाटियों तथा तेज बीट के हिमाचली गीतों पर भी दर्शक जमकर थिरके। वर्मा ज्वेलर्स सोलन के प्रोपराइटर नरेश वर्मा द्वारा द्वीप प्रज्वलित कर संध्या का आगाज किया गया। कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश अनुसूचित जाति, जनजाति एवं महिला विकास निगम के पूर्व उपाध्यक्ष बलबीर चौहान सहित कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे। बहरहाल मेले की आखिरी सांस्कृतिक संध्या में दर्शक नाटियों पर जमकर थिरके।

You might also like