ब्यास के बीचोंबीच छलक रहे जाम पर जाम

कुल्लू—जिला कुल्लू से बहने वाली ब्यास नदी में आज तक पर्यटक पाबंदी के बाद भी पानी में अठखेलियां कर मस्ती करते आए थे। लेकिन अब पर्यटकों ने जान जोखिम में डालकर नदी के बीचोंबीच हुक्का और शराब पीकर अठखेलियां करनी आरंभ कर दी हैं। इन्हें यह नहीं मालूम है कि नदी में जाना खतरनाक साबित होगा। क्योंकि ये इस बात से अंजान है। सफर को यादगार बनाने के लिए   खतरनाक ब्यास की लहरों में शराब का सेवन भी कर रहे हैं। ऐसा कुछ जोखिम भरा नजारा रविवार को जिला मुख्यालय से दो किलोमीटर की दूरी पर गैमन ब्रिज और पुलिस लाइन के बीचोंबीच वैष्णों मंदिर के पास देखने को मिला। इन पर्यटकों को किसी की भी परवाह नहीं थी। वहीं, हैरानी की बात यह है कि यहां पर पर्यटकों को नदी में न जाने के लिए सूचना बोर्ड तक नहीं लगाए हैं। मुख्यालय की कुछ दूरी पर ब्यास नदी में हो रही यह पर्यटकों की मस्ती को रोकने के लिए प्रशासन, पुलिस विभाग और पर्यटन विभाग भी बेखबर है। हालांकि जब  ब्यास नदी में हादसे होते हैं तो, उस दौरान तो प्रशासन, पुलिस विभाग के साथ-साथ पर्यटन विभाग भी दावे करते हैं कि पर्यटकों को नदी में जाने नहीं दिया जाएगा और इन  पर नजर प्रमुखता से रखी जाएगी। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। पुलिस लाइन और वैष्णों माता मंदिर के बीच  ही बेखौफ पर्यटक नदी में उतर रहे हैं। रविवार को यहां पर पर्यटक कई घंटों तक नदी के बीचोंबीच शराब का सेवन करते रहे थे। यह रविवार की ही बात नहीं है, बल्कि अन्य दिनों में भी यहां पर इसी तरह से पर्यटक मस्ती करते रहते हैं। रविवार को हुक्का और शराब का सेवन पर्यटक एक साथ करते हुए नजर आए। हालांकि मीडिया के कर्मियों ने पर्यटकों को पानी के बीचोंबीच जाने से मना भी कर दिया, लेकिन वह नहीं माने। हैरानी की बात यह है कि इस एरिया में किसी भी विभाग के कोई भी अधिकारी, कर्मचारी इन पर्यटकों को रोक पाने में नाकाम साबित हुए हैं। हाई कोर्ट और सरकार ने प्रशासन को थलौट हादसे के दौरान सख्त निर्देश दिए हैं कि नदी में जाने से पर्यटकों को रोका जाए, लेकिन पर्यटक नदी में जाने से रुक नहीं पा रहे हैं। ऐसे में प्रशासन, पुलिस विभाग और पर्यटन विभाग  की अनदेखी दिख रही है। निर्देशों पर भी अमलीजामा नहीं पहनाया जा रा है।  वैष्णों मंदिर के पास ही इस तरह से नदी में उतरने वाले पर्यटकों पर नजर नहीं डाली जा रही है तो जिला के अन्य नदी-नालों में अठखेलियां करने वाले पर्यटकों को रोकना तो दूर की बात है।  ब्यास नदी का पानी बर्फ पिघलने से बढ़ता  जा रहा है। शराब के नशे में पर्यटक को पानी बढ़ने का पता नहीं चल पाएगा, ऐसे में बड़ा हादसा भी हो सकता है।  उधर, एसपी कुल्लू शालिनी अग्निहोत्री की माने तो नदी किनारे सूचना बोर्ड लगाए गए हैं।

You might also like