मातम में डूबी बंजार घाटी

कुल्लू—जिला कुल्लू के बंजार में भेउठमोड़ के पास हुए दर्दनाक बस हादसे से पूरी बंजार घाटी मातम में डूब गई है। इस बस हादसे में 44 लोगों की मौत हो गई है। जबकि 35 के करीब लोग घायल हो गए हैं। इनमें से 22 के करीब लोग क्षेत्रीय अस्पताल कुल्लू में उपचार के लिए भर्ती हैं। जबकि 11 गंभीर रूप घायलों को पीजीआई चंडीगढ़ तथा दो घायलों को नेरचौक के लिए रैफर किया गया है। लिहाजा, इस दर्दनाक मंजर ने पूरे बंजार उपमंडल को गमगीन कर दिया गया है। इस हादसे में एक परिवार के दो-दो सदस्यों की मौत हो गई है। जिससे परिवार बेसुध पड़ गए हैं। बता दें कि जब एक साथ शव यात्राएं निकलीं तो पूरा बंजार अपने अश्रु को रोक नहीं पाया। बाहू गांव में चार शव यात्राएं निकली। जिसमें कांता देवी, रीता देवी, हेम लता और बुद्धि सिंह शामिल है। जिनकी इस सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हुई है। क्षेत्र के बछूट गांव में तीन शवयात्राएं निकली। इस गांव की दुर्गा उर्फ  कांता, कुसूम लता, धनेश्वरी की मौत हो गई है। इसके अलावा मोहनी गांव में भी तीन शव यात्राएं निकालीं। जिसमें यशपाल, सेस राम और रमेश कुमार शामिल हैं, जिनकी हादसे में मौत हुई है। जबकि भूमियां में भी तीन शवयात्राएं निकाली। यहां पुष्पा देवी, दिनेश कुमार, इंगित नेगी की  शव यात्राएं निकलीं। इस हादसे में जहां सुम निवासी पत्रकार मोहन लाल ठाकुर और उनकी 10 वर्षीय बेटी जाहनवी की मौत हो गई है। वहीं, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी इस बस हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया है।

You might also like