मालभाड़े में कटौती से कारोबारियों को राहत

बीबीएन—ट्रक आपरेटर यूनियन नालागढ़ ने कारोबारियों को राहत देते हुए मालभाड़े में कटौती कर राहत दी है। ट्रक यूनियन ने डीजल की कीमतों में कटौती के बाद 35 पैसे प्रति किलोमीटर की दर से मालभाड़े में कमी की है। नई दरों को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। यहां उल्लेखनीय है कि तेल कंपनियों ने डीजल के दाम में करीबन एक रुपए प्रति लीटर से ज्यादा कम किए हैं, जिसके बाद यूनियन ने भी उद्योगों के साथ तय समझौते के तहत शुक्रवार शाम से मालभाड़ा घटा दिया है। डीजल के दामों में की गई कटौती ने जहां वाहन चालकों व ट्रांसपोर्टरों को खासी राहत दी है, वहीं कारोबारियों का भी माल ढुलाई खर्च कुछ कम हुआ है। डीजल के दामों में बढ़ोतरी व कमी का खुदरा बाजार में कीमतों के उतार-चढ़ाव पर गहरा असर पड़ता है। ऐसे में अब डीजल की लुढ़कती दरों का फायदा उद्योगों सहित आम लोगों को मिल सकेगा फिलवक्त उद्यमियों को कच्चा माल मंगवाने तथा तैयार माल को भेजने के लिए कम ढुलाई अदा करनी होगी। कारोबारियों का कहना है कि ट्रकों के किराए कम होने से दैनिक उपयोग की वस्तुओं के दाम भी कम होंगे, जिससे कि आमजन को राहत मिलेगी। यहां बता दे कि औद्योगिक क्षेत्र होने के चलते यहां से हजारों ट्रक रोजाना प्रतिदिन उद्योगों से तैयार माल लेकर देश के विभिन्न राज्यों में जाते हंै। जानकारों का कहना है कि दरअसल डीजल की कीमतों में हुई इस कमी से माल ढुलाई भी सस्ती हो गई है, जिसका सीधा असर आम लोगों की जिंदगी पर पड़ेगा। फिलवक्त आर्थिक मोर्चे पर तंगी का सामना कर रहे बीबीएन के उद्यमियों के लिए मालभाडे़ में कमी का कदम राहत से कम नहीं है। नालागढ़ ट्रक आपरेटर यूनियन के अध्यक्ष चौधरी विद्यारत्न ने कहा कि डीजल के दाम कम होने पर तय समझौते के तहत यूनियन ने भी ट्रकों के मालभाड़े में 35 पैसे प्रति किलोमीटर की दर से कमी कर दी हैं। उद्योगों के माल ढुलाई का अहम जरिया सनद रहे कि ट्रक यूनियन नालागढ़ के तहत दस हजार से ज्यादा ट्रक पंजीकृत है, जो औद्योगिक क्षेत्र बीबीएन में स्थापित करीब तीन हजार उद्योगों के माल ढुलाई का अहम जरिया है।

You might also like