मिट रहा राजाओं वाला तालाब का अस्तित्व

नारायणगढ़ में ऐतिहासिक धरोहर हो रही प्रशासन की अनदेखी का शिकार

नारायणगढ़ – नारायणगढ़ का ऐतिहासिक धरोहर राजाओ वाला तालाब का प्रशासन की अनदेखी के कारण अस्तित्व मिटता जा रहा है। यह तालाब कभी लबालब पानी से भरा रहने वाला अब खुद पानी के लिए तरस रहा है। कभी इस तालाब का पानी रानियों व स्थानीय लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता था। नारायणगढ़ शहर में इस धरोहर की ऐसी हालत में पहुंचाने के लिए स्थानीय  पदाधिकारी व प्रशासन जिम्मेवार नजर आ रहा है। 

किसी समय भरा रहता था पानी से

कभी नाहन हिमाचल के राजा की रियासत नारायणगढ़ तक होती थी। इस का सबूत है नारायणगढ़ में एक किला व राजावाला तालाब। किले में आज कल एक तरफ पुलिस थाना व दूसरी तरफ सीआईए स्टाफ का कार्यालय है। यह राजा का किला हुआ करता था। इस समय किले की भी हालत खस्ता होती जा रही है । किले में बने पुलिस थाना फिर भी पुलिस प्रशासन द्वारा उसकी देखरेख कर उसका निर्माण किया गया। राजावाला तालाब जो लबालब पानी से भरा रहता था, जिसमें दो घाट होते थे। लेकिन वर्तमान में इस तालाब का जीर्णोदार करने की बजाय इसके अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया गया। शहर की गंदगी इस तालाब में गिराई जा रही है। इस तालाब में अब अंदर जाने से डर लगता है, क्योकि अब इस तालाब में सांप, नेवले, बिच्छू आदि खतरनाक जीवों का सम्राज्य है। आज एक ओर जहां तेजी से भू-जल स्तर में गिरावट आई है। वही मवेशियो को पानी के लिए भटकना पड़ रहा है।

क्या कहता है विभाग

इस बारे जब नगरपालिका के सचिव अनिल राणा से बात हुई तो उन्होंने बताया कि इस तालाब के लिए अढाई करोड़ रुपए का प्रपोजल पास हो गया है। चुनाव आचार संहिता लगी होने पर यह प्रपोजल आगे नहीं जा सकी। अब चुनाव संहिता खत्म होने पर इस तालाब का काम जल्दी की शुरू हो जाएगा। नगरपालिका के चेयरमैन श्रवण कुमार का कहना था कि एक साल से हाउस की बैठक नहीं हुई है, जिसपर सभी विकास कार्य रुके पडे़ है। राजावाला के नाम का यह तालाब नारायणगढ़ शहर की धरोहर है।

You might also like