मुझे बता दो, मेरा शेर बेटा कहां गया

मेरठ पहुंचा शहीद मेजर केतन शर्मा का शव, तो बिलख उठी मां

मेरठ -दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ के दौरान शहीद हुए सेना के मेजर केतन शर्मा का पार्थिव शरीर मंगलवार को मेरठ लाया गया। मेजर शर्मा का पार्थिव शरीर देखकर उनके परिवार वाले रो पड़े। परिवार वालों को ढांढस बंधाने पहुंचे सेना के जवानों को देखकर मेजर शर्मा के परिवार वाले उनके गले लिपट गए। जवानों को देखकर मेजर शर्मा की मां दहाड़े मारकर रोने लगीं। वह बार-बार एक ही सवाल पूछ रहीं थीं, मुझे बताओ, मेरा शेर बेटा कहां गया? वह कह रहीं थीं कि मुझे बता दो मेरा बेटा कब आएगा? मेजर केतन शर्मा वर्ष 2012 में सेना में शामिल हुए थे। मेजर शर्मा के परिवार में चार साल की बेटी कैरा और पत्नी इरा शर्मा हैं। अभी 27 मई को वह छुट्टी से वापस कश्मीर गए थे। शहीद हुए मेजर केतन शर्मा का परिवार गम में डूबा हुआ है। उनके परिवार ने कहा कि सरकार पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे। मेजर के ताऊ अशोक शर्मा ने कहा कि सरकार शहादत का बदला ले और बार-बार की लड़ाई बंद करे।’ इस बीच राज्य सरकार ने शहीद मेजर के परिवार को 25 लाख रुपए की सहायता का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि शहीद के परिवार के एक सदस्य को मृतक आश्रित के तौर पर सरकारी नौकरी दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद की याद में एक सड़क का नामकरण किया जाएगा। पूरा प्रदेश और देश शहीद के साथ खड़ा है।

You might also like