मेडल के लिए धर्मशाला में प्रैक्टिस

खेलो इंडिया अकादमी में अभ्यास करेंगे देश भर के 34 कबड्डी, खो-खो प्लेयर

धर्मशाला —खेलो इंडिया प्रतिभा पहचान विकास योजना के तहत धर्मशाला में खेलो इंडिया अकादमी की शुरुआत कर दी गई है। भारतीय खेल प्राधिकरण के कन्या छात्रावास धर्मशाला में चल रही खेलो इंडिया अकादमी में अब अंतरराष्ट्रीय पदक जीतने की क्षमता रखने वाले खिलाड़ी तैयार किए जाएंगे। कबड्डी के 17 खिलाड़ी धर्मशाला में अकादमी ज्वाइन कर प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। इस खेलो इंडिया अकादमी में कबड्डी और खो-खो के 34 खिलाडि़यों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। खिलाड़ी देश भर के विभिन्न राज्यों से संबंधित हैं और खेलो इंडिया गेम्स के पदक विजेता होने के साथ छात्रवृत्ति के लाभार्थी भी हैं। 19 कबड्डी खिलाड़ी धर्मशाला खेल छात्रावास में रहेंगे। इसी तरह 15 खिलाड़ी खो-खो के शामिल हैं। खो-खो के खिलाडि़यों के लिए प्रारंभिक दौर में किराए के  भवन आवासीय सुविधा प्रदान की जाएगी। हिमाचल प्रदेश में खेलो इंडिया के तहत दो अकादमियां दी गई हैं, जो कि दोनों धर्मशाला साई की देख-रेख में चलेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट खेलो इंडिया के तहत चलाई जाने वाली अकादमियों में खिलाडि़यों को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक तालिका में भारत को मजबूत करना है। वर्तमान में अन्य देशों के मुकाबले भारत खेलों में बहुत ही पीछे है। इसमें सुधार लाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने ऐतिहासिक योजना शुरू की है, जो कि धरातल पर शुरू भी हो गई है। इस वर्ष देश भर से इस योजना के तहत 734 खिलाड़ी चयनित किए गए हैं, जो कि सालाना आठ लाख छात्रवृत्ति भी प्राप्त करेंगे। इसमें से दो खेलों के 34 खिलाड़ी हिमाचल की अकादमी में भी प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे।  कबड्डी और खो-खो खेल अभी तक ओलंपिक गेम्स में शामिल नहीं किए गए हैं। अभी तक इन खेलों को एशियन चैंपियन गेम्स, सैप गेम्स में जगह मिली है, लेकिन भविष्य में इन दोनों खेलों को ओलंपिक में शामिल किया जा सकता है।

You might also like