मोदी-शी मुलाकात में पाक की घेराबंदी

बिश्केक में मिले दोनों नेता, आतंक और द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा

बिश्केक – किर्गिस्तान की राजधानी बिश्केक में एससीओ समिट से इतर पीएम नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच बातचीत में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद का भी मुद्दा उठा। दोनों नेताओं के बीच हुई संक्षिप्त बातचीत में भारत ने पाकिस्तान को आतंक पर कड़े कदम उठाने की जरूरत पर बल दिया। पीएम मोदी ने राष्ट्रपति शी से कहा कि भारत चाहता है कि पाकिस्तान आतंकवाद मुक्त क्षेत्र बनाने की कोशिश करें, लेकिन ऐसा होता दिख नहीं रहा है। पीएम ने कहा कि भारत चाहता है कि पाकिस्तान इसपर कोई ठोस कार्रवाई करे। दोनों नेताओं के बीच हुई बातचीत की जानकारी देते हुए विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि पीएम और राष्ट्रपति शी विशेष तौर पर इसके लिए सहमत हुए हैं कि दोनों देशों को इन संबंधों से और बेहतर उम्मीदें हैं। दोनों नेता वुहान समिट की सफलता को लेकर भी सहमत हुए। इसी कड़ी में पीए मोदी ने राष्ट्रपति शी को अगली अनौपचारिक समिट के लिए भारत आने का निमंत्रण दिया है। राष्ट्रपति शी इसी साल भारत के दौरे पर आएंगे। इस दौरान पीएम मोदी के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद थे।  गोखले ने बताया कि इस साल भारत और चीन संबंधों के 70 साल पूरे हो रहे हैं, दोनों देशों के बीच 70 कार्यक्रम करने का भी प्रस्ताव रखा गया। 35 इवेंट भारत में और 35 चीन में होने का प्रस्ताव है।

You might also like