ये वर्ल्ड कप है या रेन कप

ब्रिस्टल  – इंग्लैंड और वेल्स की मेजबानी में शुरू हुए वर्ल्ड कप में अब तक खिलाड़ी से ज्यादा बारिश ने अपनी भूमिका से चौंकाया है। बारिश के जारी खेल ने क्रिकेट प्रशंसकों को ये कहने पर मजबूर कर दिया है कि ये वर्ल्ड कप है या रेन कप? दरअसल, बारिश की वजह से एक दिन पहले ही मैच रद्द करना पड़ा था और अगले दिन मंगलवार को भी बारिश ने अपना असर दिखाया। इंग्लैंड में मौजूदा वर्ल्ड कप के दौरान बारिश इस कद्र हावी है कि इसने अब तक दो मैचों को पूरी तरह अपनी गिरफ्त में ले लिया। सात जून को ब्रिस्टल में पाकिस्तान और श्रीलंका का मैच रद्द करना पड़ा। इस मैच में तो टॉस तक नहीं हो पाया। इसके बाद दस जून को साउथम्प्टन में साउथ अफ्रीका-वेस्टइंडीज का मैच 7.3 ओवरों से आगे खेला नहीं जा सका और यह मुकाबला ही रद्द कर दिया गया। एक बार फिर 11 जून को बारिश की वजह से ब्रिस्टल में श्रीलंका और बांग्लादेश मुकाबले का टॉस हो नहीं पाया है। बारिश की वजह से चार जून को कार्डिफ में श्रीलंका-अफगानिस्तान के मैच के लिए 41-41 ओवर ही निर्धारित किए जा सके। अब सवाल उठता है कि बारिश का वजह से फाइनल मुकाबला धुल जाता है तो क्या होगा..? बारिश की वजह से सेमीफाइनल और फाइनल बाधित होने पर रिजर्व डे रखा गया है। हालांकि यह मैच नए सिरे से नहीं शुरू होगा। ग्रुप मुकाबलों को लिए कोई रिजर्व डे नहीं है। बारिश के कारण सेमीफाइनल मुकाबला धुल जाने पर लीग चरण के दौरान उनमें से ऊंची रैंक वाली टीम फाइनल के लिए क्वालिफाई कर जाएगी।

फाइनल भी भीगा तो ट्रॉफी करनी होगी साझा 

फाइनल के लिए आरक्षित दिन (रिजर्व डे) भी धुल जाने पर फाइनल में पहुंची दोनों टीमें ट्रॉफी साझा करेंगी। वर्ल्ड कप जैसे प्रमुख टूर्नामेंट के कार्यक्रम तय करने से पहले आईसीसी को मौसम जैसे अन्य पहलुओं पर विचार करना चाहिए। बारिश की वजह से कई टीमों के लिए वर्ल्ड कप के अगले चरण में जाने के अवसर बेकार चले जाएंगे और इससे क्रिकेट की दुनिया को सही और असली विनर भी नहीं मिल पाएगा।

You might also like