राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड में हिमाचल

अरसे बाद मिला प्रतिनिधित्व, निदेशक मनोनीत हुए निहाल चंद

शिमला – हिमाचल प्रदेश के राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड में प्रतिनिधित्व मिला है। सालों बाद प्रदेश को इस बोर्ड में जगह मिली है, जिससे राज्य में डेयरी विकास को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। राज्य मिल्कफेड के अध्यक्ष निहाल चंद  शर्मा को राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड में निदेशक के रूप में मनोनीत किया गया है। इससे राष्ट्रीय बोर्ड में हिमाचल का रुतबा बढ़ा है। गौर हो कि इस बोर्ड के माध्यम से देश भर में डेयरी विकास के लिए प्रोजेक्ट बनाए जाते हैं। हिमाचल प्रदेश का इस बोर्ड में प्रतिनिधि होने के चलते प्रदेश के डेयरी विकास में नई योजनाएं लाई जा सकेंगी। हिमाचल में दुग्ध उत्पादन से बड़ी संख्या में लोग जुड़े हैं। सरकारी संस्था मिल्कफेड के माध्यम से यहां पर दूध का एकत्रीकरण किया जाता है, जिसकी बिक्री से लोग अपनी आजीविका कमा रहे हैं। मिल्कफेड लोगों से दूध जुटाकर जहां इसे बेचता है, वहीं दूध से कई तरह के उत्पाद बनाकर इनकी बिक्री भी की जाती है। मिल्कफेड की मिठाइयों को लोग खूब पसंद करते हैं।  हिमाचल प्रदेश में डेयरी विकास के लिए अभी तक गंभीरता से प्रयास नहीं हो सके हैं। अब क्योंकि राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड में प्रदेश को निहाल चंद शर्मा के रूप में प्रतिनिधित्व मिला है, तो उम्मीद है कि यहां के लिए भी नई योजनाओं पर काम हो सकेगा। बता दें कि प्रदेश को केंद्र सरकार से कुछ समय पहले ही करीब 35 करोड़ का एक प्रोजेक्ट मंजूर हुआ था। इसके तहत यहां पर आधुनिक मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट तैयार किए जाने हैं। अब जल्द ही मंडी के चक्कर में आधुनिक मिल्क प्रोसेसिंग प्लांट का शिलान्यास किया जाएगा, वहीं रामपुर के दत्तनगर में भी ऐसा ही संयंत्र लगाने के लिए जमीन की तलाश की जा रही है। यहां पर जमीन मिलने के साथ ही इस प्रोसेसिंग प्लांट पर काम शुरू कर दिया जाएगा। राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के अध्यक्ष दलिप रथ ने प्रदेश दुग्ध विकास प्रसंघ के अध्यक्ष निहाल चंद शर्मा को मनोनीत किया है। उन्होंने नियुक्ति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का आभार जताया है।

You might also like