रिश्वत लेते दबोचे दो शिक्षक

भरठियाण स्कूल में मुख्याध्यापक-अध्यापक फर्नीचर का पैसा रिलीज करने को मांग रहे थे घूस

 हमीरपुर —कल तक स्कूली छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और दुराचार जैसे आरोपों में फंस रहे शिक्षक अब रिश्वतखोरी जैसे मामलों में भी संलिप्त नजर आ रहे हैं। हमीरपुर की राजकीय उच्च पाठशाला भरठियाण में शिक्षकों द्वारा घूसखोरी का ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां स्कूल के मुख्याध्यापक व शिक्षक को विजिलेंस ने रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है। बताते हैं कि ये शिक्षक स्कूल के लिए खरीदे गए फर्नीचर का पैसा रिलीज करने की एवज में पैसों की डिमांड कर रहे थे। मुख्ध्यापक को 21 हजार व शिक्षक को 8500 रुपए रिश्वत के साथ पकड़ा गया है। दोनो आरोपियों को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा। आरोपियों की पहचान हैडमास्टर राजकुमार और शिक्षक सुशील चौहान के रूप में हुई है। जानकारी के अनुसार राजकीय उच्च पाठशाला के मुख्याध्यापक राजकुमार ने हमीरपुर की एक फर्नीचर फर्म से मई में करीब अढ़ाई लाख रुपए का फर्नीचर लिया था। इसमें कुछ राशि का भुगतान कर दिया था जबकि कुछ का शेष था। शेष राशि के लिए स्कूल की ओर से फर्म के मालिक को स्कूल के चक्कर लगवाए जा रहे थे। अंत में हैडमास्टर और स्कूल के एक शिक्षक की सांठगांठ से कमीशन की बात की गई। यह तय किया गया कि 30 हजार रुपए यदि फर्म बतौर कमीशन दे देती है, तो पैसा रिलीज कर दिया जाएगा। फर्म के मालिक ने सारी बात की शिकायत विजिलेंस से की।

अभी गिन ही रहे थे पैसे कि आ गई टीम

शिक्षकों और फर्म के मालिक के बीच लेन-देन की बातें भी मोबाइल पर रिकॉर्ड होती रहीं। मंगलवार को विजिलेंस टीम प्लानिंग के अनुसार भरठियाण पहुंची। शिकायतकर्ता ने स्कूल के हैडमास्टर और शिक्षकों को स्कूल के पीछे बुलाया और पैसों के दो बंडल दोनों को थमा दिए। शिकायकर्ता खुद पैसे देकर एक तरफ चला गया और टीम को इशारा कर दिया। पैसे लेकर दोनों शिक्षक कमरे के अंदर चले गए। दोनों शिक्षक पैसे गिन ही रहे थे कि उन्हें रंगे हाथ दबोच लिया।

You might also like