रोट के पचास परिवार चार महीने से प्यासे

आईपीएच विभाग पर भड़के ग्रामीणों ने दी विभाग के घेराव की चेतावनी 

सैंज -रोट पंचायत के दो गांव पिछले चार महीने से पेयजल संकट गहराने के कारण भारी दिक्कतों का सामना करने को मजबूर है। ग्रामीणों का कहना है कि रोट पंचायत के बागीसेरी व वाथला गांव में पिछले करीब चार महीने से पेयजल आपूर्ति ठप है। ग्रामीण व्यास नदी का गंदा पानी पीने को मजबूर है। बागीसेरी निवासी मधुसूधन शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा कि इस गांव में पचास परिवार पिछले चार महीने से पेयजल संकट से जूझ रहे हैं। उन्होंने बताया कि भडेऊली-बागीसेरी पेयजल योजना की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है, लेकिन सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य विभाग कोई सुध नहीं ले रहा है। ग्रामीण मोहर सिंह, संजू, पूने राम, ओत राम, प्रताप सिंह, पाल,  बालक राम, खूबराम, शिव राम व इंद्रा देवी ने आईपीएच विभाग को अल्टीमेटम देते हुए चेतावनी दी है कि अगर विभाग ने एक सप्ताह के भीतर पेयजल योजना को सुचारू रूप से बहाल नहीं किया तो ग्रामीण खाली घड़ों से विभाग के खिलाफ  धरना-प्रदर्शन कर विभाग के खिलाफ  मोर्चा खोलकर कार्यालय का घेराव करने का मन बना लिया है। मधुसूधन शर्मा ने बताया कि ग्रामीण कई बार विभाग को लिखित व मौखिक शिकायत कर चुके हैं, लेकिन चार मह बीत जाने के अभी विभाग ने कोई कार्रवाई अमल में लाई है। अब थकहार ग्रामीणों ने विभाग को चेताया है कि समय रहते उक्त पेयजल योजना को दुरुसत किया जाए। उधर, आईपीएच विभाग के सहायक अभियंता राकेश अवस्थी ने बताया कि योजना टावर लाइन के निर्माण कार्य से क्षतिग्रस्त हुई है। हाल ही में मेरे ध्यान में मामला आया है। विभाग जल्द इस पेयजल योजना को ठीक करने के लिए टंैडर लगा रहा है। तब तक विभाग अस्थायी लाइन बिछाकर ग्रामीणों को पानी मुहैया करवाएगा।

You might also like