रोहतांग में जाम… आधी रात पहुंच रहे केलांग

कुल्लू—रोहतांग में लग रहा ट्रैफिक जाम जनजातीय जिला लाहुल-स्पीति के लोगों के लिए सिरदर्द बन गया है। एचआरटीसी की बसें यात्रियों को आधी रात को केलांग पहुंचा रही है। ऐसे में यात्री वहां पहुंच परेशान हो रहे हैं कि अब किस तरह से घर की ओर निकलेें।  हैरानी की बात यह है कि जाम से निपटने के लिए सरकार, प्रशासन द्वारा कोई और विकल्प नहीं ढूंढा जा रहा है। केलांग बस स्टैंड में ही आधी रात को पहुंचने वाले यात्रियों को करीब चार से पांच घंटे गुजारने पड़ रहे हैं। हालांकि ऐसा कभी घाटी के लोगों ने महसूस नहीं किया था कि वे आधी रात को केलांग पहुंचेंगे, लेकिन इस बार पहली बार ऐसा हुआ कि कई घंटों जाम में फंस जाने के बाद लोग रात को पहुंच रहे हैं। पिछले वर्ष जहां देश का सबसे लंबा रूट दिल्ली-केलांग-लेह पर बस सेवा शुरू हो गई थी, लेकिन इस बार केलांग-दिल्ली, केलांग-चंडीगढ़ और केलांग-हरिद्वार बस रूट को चलाना मुश्किल हो गया है। क्योंकि रोहतांग में लग रहे जाम से कुल्लू-केलांग और केलांग-कुल्लू रूट पर चलाई गई कुछेक बसें तक जाम में कई घंटों तक फंस रही हंै। जानकारी के अनुसार इन दिनों रोहतांग मार्ग पर जाम लगने से मनाली से केलांग सवारियां लेकर निकली निगम की बस 15 से बीस घंटे देरी से पहुंच रही है। बता दें कि पिछले दो दिनों में हालत और भी खराब हो गए हैं। एचआरटीसी की बसें काफी लेट पहुंच रही हैं, जिससे सवारी आधी रात को बस स्टैंड पहुंच कर परेशान हो रही हैं। बता दें कि मनाली-केलांग के लिए छह घंट बस में लगते हैं, लेकिन इन दिनों 15 से 20 घंटे अतिरिक्त लग रहे हैं। बताया जा रहा है कि मनाली से दो बजे दोपहर को निकलने वाली एचआरटीसी की बस कई बार तीन बजे पहुंच रही है। अकसर दो बजे जाने वाली बस सात बजे देर शाम के सिवाय ं12 और एक-दो बजे रात को पहुंच रही है। बता दें कि लाहुल-स्पीति लेह-मनाली-दिल्ली के अलावा दिल्ली, हरिद्वार और चंडीगढ़ के साथ-साथ केलांग-कुल्लू, उदयपुर-कुल्लू चलने वाले बस रूट 15 के आसपास हैं। पिछले वर्ष यह सभी बस रूट आज दिनों तक बहाल हो गए थे, लेकिन इस बार मात्र केलांग-कुल्लू और कुल्लू-केलांग चलने वाली बसों की संख्या अब तक मात्र दस है।  पांच-पांच बसें दोंनों ओर से चलाई जा रही हैं।

1200 पर्यटक वाहनों को ही है परमिशन

लाहुल-स्पीति के विशन, ईश्वरदास का  कहना है कि रोहतांग के लिए मात्र 1200 पर्यटक वाहनों को परमिशन है, लेकिन यहां पर हजारों वाहन पहुंचे होते हैं, जिससे जाम की स्थिति दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है। इसका खमियाजा लाहुल घाटी के लोगों को झेलना पड़ रहा है। पुलिस ने हालांकि जाम से निपटने के लिए जवान तो तैनात किए हैं, लेकिन अत्याधिक गाडि़यों से जवान भी बेबस हैं। ऐसे में लाहुल-स्पीति की जनता ने सरकार, प्रशासन से इस समस्या का समाधान करने की गुहार लगाई है।  उधर, आरएम केलांग मंगल चंद मनेपा ने कहा कि जाम में फंस जाने से एचआरटीसी की बसें केलांग 12 और तीन बजे रात तक पहुंच रही हैं। बस को यहां पहुंचने के लिए 15 से 20 घंटे तक कई बार लग रहे हैं।

You might also like