लेफ्टिनेंट की वर्दी में हिमाचल के लाड़ले

सोलन के संयम; नालागढ़ के हर्ष, शिलाई के अनुज, नाहन के माज खान आईएमए देहरादून से पासआउट

इंडियन आर्मी में अफसर बनने का सपना पूरा

सोलन – भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून में शनिवार को पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया, जिसमें सोलन के संयम कौशल भी पासआउट होकर इंडियन आर्मी के आफिसर बने। संयम कौशल ने बताया कि वह बचपन से ही सेना में जाना चाहते थे। इस दिशा में सुनियोजित प्लानिंग से चल कर उन्होंने आज यह मुकाम हासिल किया है। संयम ने अपनी जमा दो तक की शिक्षा सेंट ल्युक्स सोलन से प्राप्त की है, जिसके बाद राष्ट्रीय रक्षा अकादमी पुणे में उनका चयन हुआ। संयम ने अपनी सफलता का श्रेय अपनी माता पुनीत कौशल को दिया है। उनकी माता मुख्याध्यापिका के पद पर कार्यरत हैं। संयम की इस उपलब्धि पर उनकी मां पुनीत कौशल, बहन स्तुति कौशल सहित परिवार के सदस्य उनके साथ मौजूद रहे।

सूबेदार मेजर के बेटे ने अधिकारी बन पाई सफलता

स्वारघाट – स्वारघाट के साथ लगते जिला सोलन के नालागढ़ उपमंडल के ग्राम पंचायत एवं गांव साईं-चड़ोग के हर्ष ठाकुर भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन गए हैं। हर्ष ठाकुर ने गत आठ जून को इंडियन मिलिट्री अकादमी देहरादून में पासआउट परेड की है। शनिवार को पासआउट परेड में हर्ष ठाकुर के पिता सूबेदार मेजर मंगल सिंह मौजूद रहे। हर्ष ठाकुर की इस उपलब्धि पर गंभरपुल, साई चड़ोग के साथ स्वारघाट में भी खुशी का माहौल है। हर्ष ठाकुर के पिता सूबेदार मेजर मंगल सिंह सहायक सेना भर्ती अधिकारी के रूप में सेना भर्ती कार्यालय लांसडाउन उत्तराखंड में सेवाएं दे रहे हैं। हर्ष ठाकुर ने प्राथमिक शिक्षा आर्मी स्कूल जालंधर कैंट से ग्रहण की है। छठी से 12वीं तक की पढ़ाई सैनिक स्कूल सुजानपुर से की है। चंडीगढ़ से बीएससी की है।

सिरमौर के दो सपूतों को आर्टलरी में कमीशन, जम्मू-कश्मीर में मिली तैनाती

नाहन – देहरादून में शनिवार को आयोजित आईएमए की पासिंग आउट परेड में भारतीय सेना को 382 सैन्य अधिकारी मिले, जिनमें से 21 सैन्य अधिकारी हिमाचल प्रदेश से हैं। इनमें दो सपूत जिला सिरमौर के शामिल हैं। इनमें शिलाई के नाया गांव के अनुज शर्मा और नाहन के माज खान को उनके परिजनों ने उनके कंधों पर सितारे लगाकर उन्हें देश सेवा के लिए राष्ट्र को समर्पित किया। जानकारी के मुताबिक शिलाई के अनुज शर्मा के पिता ग्यार सिंह चतुर्थ श्रेणी से सेवानिवृत्त हैं, जबकि माता मालो देवी गृहिणी हैं। अनुज की प्रारंभिक शिक्षा जिला मुख्यालय नाहन में ही हुई। दसवीं कक्षा तक अनुज ने एवीएन तथा जमा दो की परीक्षा शमशेर वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला से उत्तीर्ण की। अनुज ने स्नातक पीजी कालेज नाहन से करने के बाद एनडीए की परीक्षा पास की।  उधर, माज खान के पिता मुजाहिर खान छठी आईआरबी कोलर में पुलिस विभाग में सब-इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। आर्मी स्कूल नाहन से जमा दो करने के बाद माज खान ने एनडीए की परीक्षा उत्तीर्ण की। एनडीए में ट्रेनिंग के दौरान उन्होंने शूटिंग स्पर्धा में कई मुकाम हासिल किए। तीन साल की कड़ी ट्रेनिंग के बाद उन्होंने आईएमए देहरादून में एक साल का शारीरिक व ड्रिल जैसा कड़ा प्रशिक्षण हासिल किया। इस मौके पर बहन शिबा खान भी शामिल रहीं। माज खान को आर्टलरी में कमीशन मिला है। उनकी पहली तैनाती जम्मू-कश्मीर में हुई है। वहीं अनुज को आर्टलरी कमीशन मिला है, जिसमें उनकी पहली तैनाती जम्मू में हुई है।

You might also like