लोक-लाज छोड़ो, बच्चें को नशे से बचाओ

ऊना—अंतरराष्ट्रीय नशा निवारण दिवस पर जिला स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन आईटीआई ऊना में हुआ, जिसकी अध्यक्षता उपायुक्त संदीप कुमार ने की। इस अवसर पर उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि नशे की समस्या से देवभूमि हिमाचल भी अछूती नहीं है। ऐसे में बच्चों को नशे की आदत से बचाने के लिए अभिभावकों की स्वयं लक्षणों की पहचान करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर बच्चा अचानक से अकेला रहने लगे और उसके व्यक्तित्व में बदलाव आ जाए, तो हो सकता है कि वह नशे की दलदल में फंस रहा हो। ऐसे में मां-बाप को अपने बच्चों से नशे के मामले पर खुलकर बात करनी चाहिए। अकसर ऐसा देखने में आया है कि अभिभावक समाज में लोक-लाज के डर से बच्चे में नशे की आदत को छुपाते हैं या फिर ऐसा मानने से ही इनकार कर देते हैं। इससे पहले जिला कल्याण अधिकारी सुरेश शर्मा ने मुख्यातिथि का स्वागत किया जबकि आईटीआई ऊना के प्रधानाचार्य यशपाल सिंह रायजादा ने धन्यवाद प्रस्ताव पेश किया। इस अवसर पर एएसपी विनोद धीमान, मुख्य चिकित्सा अधिकारी ऊना डा. रमन शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी चाइल्ड  हैल्थ डा. सुखदीप सिद्धू, जिला कल्याण अधिकारी सुरेश शर्मा, तहसील कल्याण अधिकारी कुलदीप दयाल सहित आईटीआई प्रधानाचार्य यशपाल सिंह रायजादा, स्टाफ व विद्यार्थी उपस्थित रहे।

विशेषज्ञों ने बताए नशे के दुष्प्रभाव

जागरूकता शिविर के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. रमन शर्मा, डा. किरण तथा हैल्थ एजुकेटर विजय कुमारी ने विद्यार्थियों को नशे के दुष्प्रभावों के बारे में विस्तार से बताया और उन्हें नशे से दूर रहने व दूसरों को भी जागरूक करने के लिए प्रेरित किया।

विजेताओं को किया पुरस्कृत

अंतरराष्ट्रीय नशा निवारण दिवस के अवसर पर आईटीआई ऊना में पेंटिंग व भाषण प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। चित्रकला प्रतियोगिता में अजय कुमार पहले स्थान पर रहे, मंजीत कौर दूसरे तथा अंजना कुमारी तीसरे स्थान पर रहीं। भाषण प्रतियोगिता में मनोज कुमार पहले, प्रीति शर्मा दूसरे तथा आकाश सैणी तीसरे स्थान पर रहे। सभी विजेताओं को इनाम भी वितरित किए गए।

You might also like