वन कर्मी का निलंबन रद्द

कुनिहार—हिमाचल प्रदेश वन अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के प्रदेश महासचिव पवन कुमार व वन वृत्त प्रधान सुशील शर्मा बिलासपुर वन-वृत ने बयान जारी किया है कि 14 जून को हिमाचल प्रदेश के वन विभाग के मुखिया ने जो तानाशाही पूर्ण रवैया अपनाते हुए पुरी ईमानदारी से कार्य करने वाले विभाग के सबसे नीचे के पद पर आसीन अधिनिष्ठ कर्मचारी का निलंबन कर दिया था। इस सारे प्रकरण पर हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर एवं वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने संघ के आग्रह पर संज्ञान लेते हुए तुरंत प्रभाव से निलंबित रूपराम वन रक्षक प्रभारी दाड़वा वीट कुनिहार वन मंडल के निलंबन आदेश वापस करवाए हैं। इन आदेशों को वापस करवाने के लिए महासंघ ने मुख्यमंत्री एवं वन मंत्री का तहदिल से आभार प्रकट करता है। संघ ने दून क्षेत्र के विधायक परमजीत सिंह पम्मी का भी आभार प्रकट किया है। क्योंकि उन्होंने किन्हीं कारणों से उत्पन्न गलत फहमियों का अवलोकन करते हुए वन रक्षक की कर्त्वय निष्ठा को समझा और निलंबन आदेश वापस करवाने की कृपा की। संघ इस पुरे घटनाक्रम में वन-वृत्त अरण्यपाल बिलासपुर जिन्होंने संघ की बात सुनकर हिमाचल प्रदेश सरकार व उच्चाधिकारियों के सामने मध्यस्तता करते हुए वन-रक्षक को न्याय दिलाने में अहम भूमिका निभाई है। अतः संघ एवं हिमाचल प्रदेश वन विभाग के समस्त क्षेत्रीय जिसने पुरी दिल चस्पी से संघ के इस मुद्दे को सरकार तक पहुंचाया तथा तुगल की फरमान को वापिस करवाया जिससे वन विभाग की रीढ़ समाझे जाने वोल पीडि़त वन-रक्षक के न्याय दिलाया का दिल से धन्यवाद व स्वागत करते हैं।

You might also like