विक्की चौहान ने नचाया शिमला

समर फेस्टिवल की सांस्कृतिक संध्या में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने बतौर मुख्यातिथि की शिरकत

शिमला -शिमला में अंतरराष्ट्रीय ग्रीष्मोत्सव के दूसरे दिन भी पहाड़ी कलाकारों ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया। इस दौरान जाने माने पहाड़ी लोकगायक विक्की चौहान ने एक से बढ़कर एक गाने गाकर पंडाल में बैठे अपने चाहवानों के साथ पर्यटकों की खुब वाहवाही बटौरी। बता दें कि मंगलवार को समर फेस्टिवल की दूसरी नाइट में शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज बतौर मुख्य अतिथि मौजुद रहे। ग्रीष्मोत्सव के दौरान विक्की चौहान ने सबसे पहले सही पकड़े है, ये लागी नाटी गाना गाकर पंडाल में बैठे लोगों को नाचने पर मजबूर कर दिया। इसके अलावा लोगों की मांग पर विक्की चौहान ने एक से बढ़कर एक पहाड़ी गाने गाकर हिमाचल के सभी जिलों की संस्कृति को एक धागे में परोने का प्रयास किया। विक्की चौहान ने ओरी आजा तू वेश मेरी कारों दी। झुमके – झुमके, भाई जी बात है ऐसी, सेल्फी खिचाणी मोरे सेल्फी खिचाणी, डाली रे झूमा, चुडपुरा, भई चुडपुरा, भाई री सालिए जैसे कई पहाड़ी लोकगीत गाए। पहाड़ी लोक नाइट के दौरान मंगलवार को विक्की चौहान ने ओडियो विडियों के साथ – साथ नए प्रयोग भी किए। विक्की चौहान ने 2005 से विलुप्त होती जा रही विधा ठोडा नृत्य की झलक विशुद्ध पारम्परिक परिधान के साथ दिखाई। इसके अलावा दूसरे पहाड़ी फोक गायक नेरन्द्र ठाकुर ने भी अपनी प्रस्तुतियों से लोंगों का खुब मोहा। इस दौरान नरेन्द्र ठाकुर ने झूरी, ओ  रीनू ओ रीनू, शाउरा लाना तेरे ग्रां, बोतला फूटी हाए रे नातिया, बंगा चुटी ओ सरला, रोक भाविये रोक भाविए के गाने से समर फेस्टिवल में चार चांद लगाए है। इसके अलावा शिमला पब्लिक स्कूल से आंचल ने गुजराती नृत्य, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला लक्कड़-बाजार द्वारा हिमाचली लोकनृत्य, सेंट ऐडवर्ड स्कूल द्वारा कथक नृत्य, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बालूगंज द्वारा चम्बयाली नृत्य, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला लालपानी द्वारा नाटी प्रस्तुत की गई। मंगलवार को ग्रीष्मोत्सव के तीसरे दिन शाम 05.00 से 06.00 बजे के मध्य भाषा, कला एवं संस्कृति विभाग द्वारा राज्य स्तरीय लोक नृत्य प्रतियोगिता आयोजित की गई। इनमें जिला सिरमौर, जिला बिलासपुर और जिला लाहौल-स्पीति द्वारा प्रस्तुतियां गई। अमित कश्यप ने कहा कि शाम 06.00 बजे से 08.00 बजे तक हिमाचल के स्थानीय कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति देकर पर्यटकों का मनोरंजन किया। इनमें केके भारद्वाज, जय प्रकाश, भावना, आरती डोगरा, डॉ. गोपाल भारद्वाज, दीक्षा देवलस्या, मनोज कुमार, चंद्रमोहन ठाकुर, नीलम गंधर्व, विनोद कुमार, डीआर भारद्वाज, ईशानिका शर्मा, जय प्रकाश, भूमिका हरनोट तथा कला चौहान द्वारा प्रस्तुतियां दी गई।

You might also like