वीरभद्र के बयान से कांग्रेस को नुकसान

कांग्रेस प्रभारी ने मानी गलतियां, संगठन में होगी बड़ी सर्जरी

शिमला – कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल ने कहा है कि लोकसभा चुनाव की हार में जहां संगठन की बड़ी कमजोरियां रही हैं, वहीं पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की बयानबाजी भी उलटी पड़ी है। उन्होंने सीधे तौर पर वीरभद्र सिंह का नाम नहीं लिया, परंतु कहा कि बड़े नेताओं के बयानों से नुकसान हुआ है। उन्होंने हार के इन कारणों पर हाइकमान द्वारा उचित कार्रवाई करने की बात भी कही है। उन्होंने कहा कि यहां पर जो कुछ भी हुआ उससे हाइकमान को अवगत कराया जाएगा, जिसके बाद फैसला हाइकमान ने लेना है।  चुनाव में मिली करारी हार के कारण जानने शिमला पहुंची रजनी पाटिल ने पत्रकारों से बातचीत में ऐलान किया कि पार्टी में जल्द ही बड़ी सर्जरी की जाएगी। इसकी शुरूआत हिमाचल से होगी। उन्होंने कहा कि चुनाव में मिली हार के कई कारण हैं और उनकी विस्तृत रिपोर्ट तैयार की जा रही है। इस रिपोर्ट को पार्टी हाइकमान को सौंपा जाएगा और उसके बाद आगे की प्रक्रिया शुरू होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी में ऊपर से नीचे तक परिवर्तन होगा, जिसे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी ही तय करेगी। इतना स्पष्ट है कि निष्क्रिय पदाधिकारी हटेंगे और उनके स्थान पर संगठन में काम करने वाले लोगों को स्थान मिलेगा। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में संगठनात्मक खामियां उजागर हुई हैं, जिन्हें दूर किया जाएगा। कई स्थानों से पोलिंग बूथों में कार्यकर्ताओं के न होने की सूचना भी मिली है, जो चिंता की बात है। वह पार्टी के हर वर्ग से हार के कारणों को लेकर चर्चा कर रही हैं। लोकसभा चुनाव में पार्टी प्रत्याशियों ने लिखित में रिपोर्ट दी है और हार के कारण बताए हैं, जिस पर वह फिलहाल ज्यादा कुछ नहीं कह सकतीं। पाटिल ने कहा कि चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष ने भी रिपोर्ट दी है और सभी कारणों के बारे में पार्टी हाइकमान को बताया जाएगा।  वहां से फिर आगे की कार्रवाई होगी। इसके अलावा पार्टी के विधायकों और पदाधिकारियों ने भी अपनी-अपनी बात रखी है। रजनी पाटिल ने कहा कि पार्टी इस समय बुरे दौर से गुजर रही है लेकिन फिर से वापसी करेगी।

होटलों में रहना कोई बड़ी बात नहीं

पार्टी फंड के कथित दुरुपयोग पर रजनी पाटिल ने कहा कि ऐसा कुछ नहीं है। होटलों में रहने पर खर्चा करना कोई बड़ी बात नहीं है। उनका कहना था कि पार्टी के लिए यह कोई चिंता की बात नहीं है। गौर हो कि कुछ दिन पहले होटलों पर भारी भरकम राशि खर्च करने का मामला उठा था, जिस पर साफ जवाब नहीं आया है। इतना ही नहीं हेलिकाप्टर की सैर का क्या फायदा हुआ, इस पर भी वह कुछ नहीं बोलीं।

You might also like