शिमला में ‘छुपा भी न सकेंगे और बता भी न सकेंगे’

शिमला—सोमवार को अंतरराष्ट्रीय समर फेस्टिवल का आगाज हो गया है। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने सोमवार को समर फेस्टिवल का शुभारंभ किया। बता दें कि इस बार अंतरराष्ट्रीय ग्रीष्मोत्सव को हिमाचल के लोकगायकों ने ही चार चांद लगाने का जिम्मा लिया है। ग्रीष्मोंत्सव की पहली नाइट में हिमाचली लोकगायक कृतिका तनवर और अनुज शर्मा ने दर्शकों को पहाड़ी, बॉलीवुड और पंजाबी गानों के साथ खुब मनोरंजन किया। कृतिका तनवर ने स्टार नाइट की शुरूआत में सबसे पहले कलंक फिल्म का छुपा भी न सकेंगे और बता भी न सकेंगे के गाने से शुरूआत की। वहीं उसके बाद बन जा तू मेरी रानी मैं तेरा राजा, हाई रेटिड गबरू, आंख मारे ओ लड़का आंख मारे, तारे गिन गिन, याद आई तेरी सावन लगी जैसे कई बॉलीवुड गानों से दर्शकों का मनोरंजन किया। वहीं कृतिका ने पहाड़ी गानों में मेरे प्यारूआं मेरे खाणी जलेबीए पारों आया बंजारा, मणकवां, ईसा गराई देया नंबरा व इसके अलावा कई पंजाबी सॉन्ग भी गाए। वहीं कांगड़ा के रहने वाले पहाड़ी गायक अनुज शर्मा ने समर फेस्टिवल की पहली नाइट में ओ माही दे पंजाबी गाने के साथ शुरूआत की। इसके बाद लोगों की मांग पर ले जाएं तूझे हवाएं, हल्का हल्का सरूर है, तेरा फितुर जब से चढ़ गया रे, दिल दिया गला, कलंक नहीं इश्क, लंदन ठुमक दा, दमा दम मस्त किलंदर, दिल चोरी साडा हो गया, वो शाम कुछ अजीब, कभी . कभी मेरे दिल में ख्याल आया जैसे कई बॉलीवुड गाने गाए। इसके अलावा पहाड़ी गानों में अनुज शर्मा ने माय नी मेरिए, चंबा आर नदियां पार और एक से एक गाने गाकर बाहरी राज्यों से आए पर्यटकों का खुब मनोरंजन किया। बता दें कि  सोमवार को शाम 4ः00 बजे के बाद शिमला के विभिन्न स्कूलों से आए छात्रों ने भी विभिन्न प्रस्तुतियां दी। ताराहाल स्कूल द्वारा पंजाबी नृत्य, मोनाल पब्लिक स्कूल द्वारा राजस्थानी नृत्य, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खलीनी द्वारा नाटी, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पोर्टमोर द्वारा डोगरी नृत्य और राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला टुटीकंडी द्वारा लोकनृत्य प्रस्तुत किया गया।

अनुज शर्मा बोले, नशे से दूर रहें युवा

हिमाचल प्रदेश के युवा वर्ग में प्रतिभा की कमी नहीं है। युवा चाहे तो कुछ भी कर सकते है। मेरी प्रदेश के युवा वर्ग से अपिल है कि वह नशे की प्रवृति से दूर रहे। वहीं   अपने अंदर जो कला हैए उसे लोगों के सामने लाने का प्रयास करें। बता दें कि ग्रीष्मोत्सव में बतौर स्टार कलाकर आए अनुज शर्मा 2006 में  इंडियन आईडिल सीजन दो के रनअप रहे है। वहीं हिमाचलीगानों की 30 से 40 एलबम भी बना चुके है।

आज भी होंगे रिज पर विभिन्न कार्यक्रम

अंतरराष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव के द्वितीय दिवस उत्तरी क्षेत्र सांस्कृतिक परिषद पटियाला के सौजन्य से विभिन्न राज्यों के कलाकारों द्वारा अपने-अपने राज्य से संबंधित पारंपरिक नृत्य प्रस्तुत किए जाएंगे। यह जानकारी उपायुक्त एवं अंतरराष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव समिति के अध्यक्ष अमित कश्यप ने दी। उन्होंने कहा कि असम, गुजरात, जम्मू कश्मीर, मध्य प्रदेश व तेलंगाना के कलाकार पारंपरिक नृत्य प्रस्तुत करेंगे। उन्होंने कहा कि 4 जून को सुबह 11 बजे से  4 बजे तक रिज मैदान पर पुस्तकालय के समीप तेलंगाना की माथुरी 11 बजे से 3 बजे तक पुलिस नियंत्रण कक्ष के समीप असम का बिहूए, 11 बजे से 4 बजे तक रोटरी टाउन के समीप गुजरात का डांडिया एवं गरबा, इसी समय में त्रिशूल बेकर्ज के सामने जम्मू कश्मीर का राउफ  तथा 11 बजे से 4 बजे के मध्य सीटीओ के समीप मध्य प्रदेश का बधाई नोत्रा प्रस्तुत किया जाएगा।

You might also like