श्वेत मलिक पर गाज के आसार

अमृतसर भाजपा चार गुटों में बटी, बदल सकता है प्रदेश अध्यक्ष

अमृतसर -पंजाब में 19 मई को हुए लोकसभा चुनाव में अमृतसर से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी की हार का ठीकरा भाजपा के पंजाब अध्यक्ष सांसद श्वेत मलिक पर फोड़े जाने की प्रबल संभावना है, जिसके चलते प्रदेश अध्यक्ष को बदला भी जा सकता है। प्रदेश अध्यक्ष श्री मलिक के साथ स्थानीय नेतृत्व की नाराजगी के चलते अमृतसर भाजपा में तगड़ी गुटबंदी चल रही है। जिला भाजपा इस समय चार गुटों में बंटी हुई है, जिसमें राजिंदर मोहन छीना, तरुण चुग, श्वेत मलिक और पूर्व कैबिनेट मंत्री अनिल जोशी के गुट शामिल हैं। श्वेत मलिक जहां पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के खास माने जाते रहे हैं, वहीं पिछले लोकसभा चुनावों में तरुण चुघ को श्री जेटली की हार के लिए जिम्मेदार माना जाता रहा है। भाजपा के  वरिष्ठ नेता राजिंदर मोहन छीना इस बार लोकसभा चुनाव में अमृतसर सीट के लिए प्रबल दावेदार थे, लेकिन आखिरी वक्त पर पार्टी द्वारा केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी को टिकट दे दिए जाने से छीना भी नाखुश चल रहे थे। छीना सिख चेहरा होने के साथ-साथ अमृतसर में अच्छी पकड़ बनाए हुए हैं और उनके विधानसभा क्षेत्रों में श्री पुरी को अच्छी लीड मिली थी। श्री पुरी कांग्रेस के उम्मीदवार गुरजीत सिंह औजला से 99688 मतों से पराजित हुए थे। उन्हें कुल 343311 मत, जबकि श्री औजला को 442999 मत प्राप्त हुए थे। अपनी हार के कारण का पता चलने पर श्री पुरी स्थानीय नेताओं खास कर श्वेत मलिक से खासे नाराज हैं।पार्टी के पूर्व विधायकों और स्थानीय नेताओं की श्री मलिक से नाराजगी के चलते पार्टी की ओर से श्री मलिक को प्रदेश अध्यक्ष से हटाए जाने की अटकलों का बाजार गर्म है और संभावना जताई जा रही है कि जालंधर से भाजपा के पूर्व मंत्री, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष मनोरंजन कालिया को एक बार फिर से प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।

You might also like