सटीक थ्रो की प्रैक्टिस, 20-20 बार लगाए निशाने

साउथेम्प्टन। भारतीय टीम की कैचिंग अच्छी मानी जाती है, लेकिन फील्डिंग कोच आर श्रीधर वर्ल्ड कप में सीधे थ्रो को अचूक बनाने के लिए इसमें सुधार चाहते हैं। रवींद्र जडेजा को छोड़कर भारतीय टीम के अन्य खिलाडि़यों का विकेट पर लगाया गया निशाना अच्छा नहीं है, भले ही वे चुस्त और फुर्तीले हैं। टीम इंडिया मौजूदा वर्ल्ड कप में अपने अभियान का आगाज पांच जून को साउथेम्पटन में करेगी। पहले मैच में उसका सामना साउथ अफ्रीका से होगा। श्रीधर ने अब ‘राउंड दि क्लॉक’ क्षेत्ररक्षण ड्रिल तैयार की है, जिसमें फील्डर छह विभिन्न पोजिशन से नॉन स्ट्राइकर छोर पर विकेट पर गेंद मारता है। इस पर खिलाडि़यों को छह अलग-अलग पोजिशन से 20 बार स्टंप को हिट किया।

You might also like