सड़क की घटिया टायरिंग पर नपेंगे अफसर

नाहन—हिमाचल प्रदेश में सड़कों की गुणवत्ता को परखने के लिए गठित की गई गुणवत्ता नियंत्रण सैल की सिफारिश तथा हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल की शिकायत पर जिला सिरमौर के नाहन विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली एक सड़क की घटिया टायरिंग व खराब गुणवत्ता के मामले में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बड़ी कार्रवाई के आदेश जारी किए हैं। गुणवत्ता नियंत्रण सैल की सिफारिश पर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने इस मामले में लोक निर्माण विभाग पांवटा साहिब के अधिशाषी अभियंता के अलावा सहायक अभियंता व कनिष्ठ अभियंता केे खिलाफ विभागीय कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए हैं। यही नहीं इस मामले में संबंधित ठेकेदार के खिलाफ भी आवश्यक कानूनी कार्रवाई के आदेश जारी किए गए हैं। यह कार्रवाई नाहन के विधायक एवं हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल की उस शिकायत पर की गई है, जिसमें नाहन विधानसभा क्षेत्र के पल्होड़ी गांव में हरिजन बस्ती से सिंबलवाड़ा गांव तक की सड़क की टायरिंग पर खर्च की गई करीब नौ लाख रुपए की राशि की गुणवत्ता की शिकायत गुणवत्ता नियंत्रण सैल को की गई थी। शिकायत मिलने पर तुरंत कार्रवाई हुई तथा मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रमुख सचिव व गुणवत्ता नियंत्रण सैल के अध्यक्ष संजय कुंडू ने लोक निर्माण विभाग के पांवटा मंडल के अंतर्गत आने वाले इस सड़क मार्ग के जांच के आदेश जारी कर दिए। जांच के लिए बकायदा अधीक्षण अभियंता दीपक शर्मा के नेतृत्व में आठ सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया। कमेटी ने जब जांच की तो इस सड़क में पूर्ण रूप से घटिया सामग्री के इस्तेमाल व खराब गुणवत्ता स्पष्टतौर पर सामने आई। जांच के दौरान पाया गया कि करीब नौ लाख रुपए से होने वाले टायरिंग के कार्य में संबंधित ठेकेदार द्वारा निर्माण में पूर्ण रूप से कोताही बरती गई है। यही नहीं टायरिंग के दौरान संबंधित मंडल के अधिकारियों की कार्यप्रणाली भी सवालों केे घेरे में रही तथा स्पष्टतौर पर सामने आया कि यदि संबंधित लोक निर्माण विभाग के मंडल के अधिकारी संबंधित ठेकेदार के कार्यों की समय पर जांच करते तो सरकारी खजाने को करीब नौ लाख रुपए का चूना नहीं लगता। जांच में स्पष्टतौर पर लोक निर्माण विभाग के पांवटा मंडल के कनिष्ठ अभियंता से लेकर अधिशाषी अभियंता तक के अधिकारी जांच के दायरे में आ गए हैं तथा लापरवाही भी स्पष्टतौर पर सामने आई है। इस मामले में मुख्यमंत्री द्वारा सख्त रवैया अपनाते हुए कड़ी कार्रवाई के आदेश जारी किए गए हैं। इससे स्पष्टतौर पर लोक निर्माण विभाग के पांवटा मंडल के अधिशाषी अभियंता, सहायक अभियंता व कनिष्ठ अभियंता पर गाज गिरनी तय मानी जा रही है। क्योंकि मामला सीधेतौर पर हिमाचल प्रदेश विधानसभा केे अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल के विधानसभा क्षेत्र से जुड़ा है ऐसे में भी अधिकारी इस मामले में जांच को गंभीर मान रहे हैं। यही नहीं इस मामले में हरिजन बस्ती पल्होड़ी से सिंबलवाड़ा तक निर्मित होने वाले सड़क मार्ग के टायरिंग के कार्य पर खर्च की गई राशि को संबंधित ठेकेदार से वसूले जाने के आदेश भी जारी किए गए हैं।

You might also like