सरकारी स्कूलों के होनहारों को जेईई-नीट की कोचिंग

हमीरपुर—हमीरपुर जिला की राजकीय पाठशालाओं के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से जिला प्रशासन शिक्षा विभाग के सहयोग से अवकाश के दिनों में विशेष समर क्लासेस शुरू करेगा। इस संदर्भ में उपायुक्त हरिकेश मीणा ने सोमवार को बैठक में निर्देश जारी किए। इस बैठक में  उपनिदेशक (उच्च शिक्षा) जसवंत सिंह सहित जिला के विज्ञान संकाय वाले स्कूलों के प्रधानाचार्य विशेष रूप से उपस्थित रहे। डीसी ने कहा कि जमा एक तथा जमा दो कक्षाओं में विज्ञान संकाय के छात्रों को जेईई और नीट जैसी परीक्षाओं में बेहतर प्रदर्शन हेतु प्रोत्साहित व प्रशिक्षित करने के लिए समर क्लासेज का आयोजन इसी माह से पड़ने वाले अवकाश के दौरान किया जाएगा। इस पहल का मुख्य उद्देश्य सभी राजकीय पाठशालाओं में एक समरूप शिक्षा व्यवस्था स्थापित कर बच्चों को प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी का अवसर प्रदान करना है, ताकि आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण कोचिंग से वंचित रहने वाले बच्चे उच्च शिक्षा का अपना लक्ष्य प्राप्त कर सकें। उन्होंने कहा कि इसके लिए जमा एक तथा दो कक्षा के विज्ञान संकाय के बच्चे स्वयं अपना नाम प्रधानाचार्य के माध्यम से दर्ज करवा सकते हैं। उन्होंने सभी प्रधानाचार्यों से भी आग्रह किया कि वे बच्चों व उनके अभिभावकों को इसके लिए प्रेरित करें। इन कक्षाओं के लिए क्लस्टर गठित कर उपमंडल स्तर पर ही व्यवस्था की जा रही है, जहां स्वयंसेवी शिक्षक इन बच्चों को अवकाश के दौरान निःशुल्क शिक्षा प्रदान करेंगे। उपमंडलाधिकारी इसमें शिक्षा विभाग को पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि अगले चरण में सभी पाठशालाओं में बच्चों के लिए अनुकूलन कार्यक्रम (ओरिएंटेशन प्रोग्राम) चलाया जाएगा, जिसमें मासिक आधार पर परीक्षा (मॉक टेस्ट) आयोजित करने की योजना है। टेस्ट के तुरंत पश्चात इस परीक्षा के आधार पर जिला स्तर की मैरिट सूची भी तैयार की जाएगी। इसके अतिरिक्त प्रति सप्ताह सभी पाठशालाओं के प्रधानाचार्य उस अवधि में पढ़ाए गए विषयों की जानकारी शिक्षकों से प्राप्त करेंगे और विषय में पीछे चल रहे शिक्षकों की जवाबदेही भी तय की जाएगी।

You might also like