सांगला घाटी में फंसे उत्तराखंड के पर्वतारोही

शिमला – खराब मौसम के चलते किन्नौर जिला की सांगला घाटी में उत्तराखंड का पर्वतारोही दल फंस गया है। गुरुवार शाम तक तमाम कोशिशों के बावजूद उन्हें वहां से नहीं निकाला जा सका। इस काम में हिमाचल सरकार ने वायु सेना की मदद ली है, जिसका हेलिकाप्टर तय स्थान पर नहीं उतर सका। बताया जाता है कि जहां पर ये लोग फंसे हैं, वहां पर खराब मौसम के कारण हेलिकाप्टर की लैंडिंग नहीं हो सकी। गुरुवार शाम तक हेलिकाप्टर की लैंडिंग का प्रयास होता रहा। जिलाधीश शिमला ने कहा कि शुक्रवार को भी हेलिकाप्टर के माध्यम से इन पर्वतारोहियों को वहां से निकालने का प्रयास जारी रहेगा। उधर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस दल को वहां से निकालने के लिए तुरंत कदम उठाने के निर्देश दिए थे, जिस पर उनके अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी ने वायु सेना से हेलिकाप्टर की मदद मांगी। हेलिकाप्टर के पहुंचने के बाद सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ, लेकिन मौसम खराब होने के कारण चौपर तय स्थान पर नहीं उतर पाया। वहीं पता चला है कि इस पर्वतारोही दल की एक महिला सदस्य के घुटने में गंभीर चोट लगी है। इस महिला का नाम सुधा भट्टाचार्य बताया जा रहा है। यह दल उत्तराखंड के धौला से रूपिन दर्रे से होकर किन्नौर जिला की सांगला घाटी आया है। जिलाधीश शिमला ने बताया कि सीएम जयराम ठाकुर के आदेशों पर इस दल की खोजबीन प्रभावी तरीके से की जा रही है। उन्होंने बताया कि महिला को चोट लगने के बारे में जो जानकारी मिली, उससे सीएम को अवगत कराया गया है। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व, डा. श्रीकांत बाल्दी को उचित स्तर पर समन्वय स्थापित कर कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए हैं। उन्होंने बताया कि हेलिकॉप्टर ने पर्वतारोही दल के स्थान पर पहुंचकर उतरने का काफी प्रयास किया, किंतु खराब मौसम के कारण हेलिकाप्टर समाचार मिलने तक नहीं उतर पाया था। शुक्रवार सुबह पांच बजे पुनः बचाव अभियान आरंभ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि घायल महिला सुधा भट्टाचार्य सहित पर्वतारोही दल के सभी सदस्य ठीक हैं और उन्हें शीघ्र अतिशीघ्र सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया जाएगा।

You might also like