साफ भोजन बचाएगा डायरिया से

मनीमाजरा में स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने की संभलकर खाने की अपील

मनीमाजरा – शहर के सरकारी एवं गैर सरकारी अस्पतालों में डायरिया से ग्रस्त मरीजों की संख्या दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही है। निजी अस्पताल के डाक्टर पिंकेश वर्मा ने बताया कि यह बीमारी अधिकतर स्लम एरिया में पनप रही है। इस बीमारी में मरीजों को उलटी के साथ-साथ दस्त भी लगते हैं। यदि समय रहते मरीज अस्पताल नहीं पहुंचते, तो ऐसे में मरीज की जान भी जा सकती है। उन्होंने बताया कि इस बीमारी की चपेट में अधिकतर छोटे बच्चे आते हैं और यह एक संक्रमण बीमारी है। इस बीमारी के लिए लोगों का गलत खानपान उत्तरदायी है। आज कल लोग घरों में और उसके आसपास सफाई नहीं रखते,  दूसरा लोग आजकल कटे हुए फलों को खुले में रख देते हैं। उन्होंने कहा कि कटे हुए खुले में रखे गए फल, गन्ने के रस अत्यधिक नुकसानदायक होते हैं। डाक्टर ने लोगों को सलाह दी है कि वे अपने आसपास सफाई रखें और बासी खाना न खाए। इसके अलावा खरबूजा, तरबूज खाने के तुरंत बाद पानी न पीए। खरबूजे के ऊपर पानी पीने से हैजा की बीमारी हो सकती है। डाक्टर पिंकेश वर्मा ने बताया कि अधिक खरबूजा, तरबूज खाने पेट में गर्मी बढ़ जाती है, ऐसी अवस्था में मरीजों का पेट खराब हो जाता है। अगर किसी को इस प्रकार की समस्या है, तो  लोग खुद डाक्टर न बने, किसी सरकारी या गैर-सरकारी अस्पताल में जा कर अपना उपचार करवाएं।

You might also like