साहब! निगम के चालक नहीं रोक रहे बसें

स्वारघाट—हिमाचल पथ परिवहन निगम प्रबंधन ने बेशक चालकों-परिचालकों को हर छोटे-बड़े स्टापेज से सवारियां उठाने के निर्देश दिए हों, लेकिन फिर भी चालक-परिचालक मनमानी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। एचआरटीसी चालकों को जल्दी इतनी ज्यादा होती है कि रास्ते में स्टापेज पर खड़ी सवारियों को चढ़ाने का इनके पास समय ही नहीं होता। बेशक बस खाली ही क्यों न हो। ऐसा ही एक मामला रविवार सुबह जिला बिलासपुर में पेश आया है। जब कल्लर स्थान पर बस लेने के लिए खड़ा एक व्यक्ति घंटों  तक एचआरटीसी बसों को हाथ देता रहा, लेकिन एक भी बस नहीं रुकी। अंत में उसे निजी वाहन में जाना पड़ा। जानकारी के अनुसार अनूप सिंह पुत्र रत्न सिंह गांव चेली डाकघर तंबौल हिमाचल प्रदेश पावर कारपोरेशन के सैंज स्थित प्रोजेक्ट में बतौर कनिष्ठ अभियंता कार्यरत है। शनिवार को अपने ससुराल कल्लर आया हुआ था। प्रोजेक्ट में कोई जरूरी काम होने के चलते प्रबंधन की ओर से उसे रविवार को ड्यूटी पर पहुंचने के निर्देश मिले थे। रविवार को वह ड्यूटी पर जाने के लिए सुबह करीब साढ़े पांच बजे कल्लर बस स्टाप पर खड़ा हो गया। इस दौरान बिलासपुर डिपो की दिल्ली-मरोतन, दूसरी बस बिलासपुर डिपो की दिल्ली-सिद्धपुर व तीसरी मंडी डिपो की दिल्ली-मंडी बस गुजरी, लेकिन हाथ देने और सभी बसों में सीटंे खाली होने के बावजूद चालकों-परिचालकों ने मनमानी करते हुए बसें नहीं रोकीं। अनूप सिंह ने बताया कि एनएच 205 चंडीगढ़-मनाली पर बिलासपुर से स्वारघाट के बीच दर्जनों छोटे-बड़े स्टाप हैं। जिन पर एचआरटीसी की लांग रूट की बसें नहीं रुकती हंै। जबकि इस तरफ  एचआरटीसी के लोकल रूट और प्राइवेट बस रूट बहुत कम हैं बसें न रुकने के चलते यात्रियों, नौकरीपेशा लोगों, स्कूली बच्चों और अन्य शिक्षण संस्थानों में पड़ रहे विद्यार्थियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अनूप सिंह ने उक्त बस चालकों-परिचालकों की 9418000529 नंबर पर और आरएम बिलासपुर से शिकायत की है, जिनसे कार्रवाई करने का आश्वासन मिला है। इसके साथ ही अनूप सिंह ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को व्हाट्सऐप नंबर पर शिकायत की है और ऐसे बस चालकों-परिचालकों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

You might also like