सिरडी में गहराया पेयजल संकट

राख—भरमौर उपमंडल की पुल्लन पंचायत के सिरडी गांव में पिछले दस दिनों से पेयजल संकट गहराने से ग्रामीणों की प्यास बेकाबू होकर रह गई। पेयजल व्यवस्था ठप्प होने से ग्रामीणों को चिलचिलाती धूप में करीब एक किलोमीटर प्राकृतिक चश्मे या बुढढल नाला से पानी लाकर अपनी ओर मवेशियों की प्यास बुझानी पड रही है। ग्रामीणों के पेयजल संकट गहराने की कई मर्तबा आईपीएच विभाग को मौखिक शिकायत करने के बावजूद कोई हल नहीं हो पा रहा है। जिस कारण आईपीएच विभाग के खिलाफ ग्रामीणों का गुस्सा सांतवें आसमान पर पहंुच गया है। ग्रामीणों ने जल्द समस्या का हल न होने की सूरत में आंदोलन की राह अपनाने की दो टूक सुना डाली है। ग्रामीण कुलदीप कुमार, पिंकू राम, योगेश, राकेश, सुनील व तिलक राज का कहना है कि गर्मियों के शुरूआती दौर में ही गांव की पेयजल आपूर्ति व्यवस्था बुरी तरह हांफ गई है। उन्होंने बताया कि नलकों से पानी न टपकने से उन्हें मजबूरन प्राकृतिक चश्मों व नालों से पानी लाकर काम चलाना पड रहा है। उन्होंने बताया कि बडे खेद का विषय है कि जलस्रोत में पानी का जलस्तर बेहतर होने के बावजूद पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है। उन्होंने बताया कि पेयजल संकट की समस्या बारे में आईपीएच विभाग को कई बार बताया जा चुका है। उधर, आईपीएच विभाग भरमौर उपमंडल के सहायक अभियंता शरती शर्मा ने बताया कि ग्रामीण पेयजल संकट गहराने की लिखित शिकायत कार्यालय में दें। उन्होंने कहा कि शिकायत पत्र मिलते ही सकारात्मक कार्रवाई अमल में लाकर पेयजल व्यवस्था को बहाल कर दिया जाएगा।

You might also like