सुक्खू के करीबी तीन कांग्रेस नेता निलंबित

हमीरपुर —कभी पार्टी में आंतरिक कलह, कभी आपसी मतभेद, तो कभी मनभेद को लेकर सुर्खियों में रहने वाली कांग्रेस लोकसभा चुनावों के बाद फिर से चर्चा में है। दरअसल प्रदेश कांग्रेस हाइकमान ने वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां करने पर पार्टी के तीन सदस्यों को सस्पेंड कर दिया है। इनमें दो हमीरपुर संसदीय क्षेत्र से हैं, जबकि एक शिमला से है। आरोप है कि पार्टी से निलंबित इन सदस्यों ने वरिष्ठ नेताओं के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र भाषा का प्रयोग किया गया। यूं कहें कि इन तीन पार्टी सदस्यों पर अनुशासनात्क कार्रवाई पार्टी की ओर से की गई है। पार्टी से निलंबित इन सदस्यों में हमीरपुर पार्लियामेंट्री से सोशल मीडिया प्रभारी विवेक कटोच, स्टेट सेके्रटरी ऊना से अजय जगोता और शिमला पार्लियामेंट्री के पांवटा साहिब से अल्पसंख्यक विभाग के संयोजक असगर अली शामिल हैं। बताते हैं कि इन पार्टी सदस्यों ने सोशल मीडिया पर जाकर पूर्व मुख्यमंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की थी। यही नहीं, सोशल मीडिया में यहां तक लिखा गया था कि लोकसभा चुनावों की हार के लिए ईवीएम नहीं, बल्कि केवीएम जिम्मेदार है। यहां केवीएम से तात्पर्य वीरभद्र सिंह समेत पार्टी अध्यक्ष और विधायक दल के नेता को माना जा रहा है। पार्टी के बड़े नेताओं का कहना है कि अगर इन्हें वरिष्ठ नेताओं से कोई परेशानी थी, तो वे पार्टी के ध्यान में लाते न कि सोशल मीडिया पर जाकर इस तरह अभद्र भाषा का प्रयोग करते। बता दें कि विवेक कटोच नादौन विधानसभा क्षेत्र से ताल्लुक रखते हैं और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुक्खू के काफी नजदीक हैं। निलंबित किए अन्य सदस्य भी सुक्खू के करीबी बताए जा रहे हैं। पार्टी की ओर से की गई इस कार्रवाई का भविष्य में चलकर क्या स्वरूप होगा, यह तो अभी नहीं कहा जा सकता, लेकिन एक बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि जिस तरह प्रदेश में कांग्रेस हारी है, उसमें कहीं न कहीं इस तरह के मनमुटाव और अनुशासनहीनता भी जिम्मेदार रही है।

पार्टी के लिए अच्छे संकेत नहीं जा रहे

लोकसभा चुनावों में प्रदेश की चारों सीटें एक बार फिर से गवां चुकी कांग्रेस के लिए यह वक्त आत्मचिंतन और हार के कारणों के मंथन का है। उसके विपरीत कांग्रेस के वरिष्ठ और कनिष्ठ नेता जिस खेल में उलझे हैं, वे पार्टी के भविष्य के लिए शुभ संकेत नहीं हैं। यह वक्त तो हार के कारणों पर मंथन कर भविष्य के लिए सही रणनीति बनाने का है।

You might also like