सूरज के सितम से दहक रहे जंगल

घुमारवीं—तलाई—जिला में पड़ रही प्रचंड गर्मी में आग ने तांडव मचा रखा है। आग जंगलों को अपनी चपेट में ले रही है। जिससे वन संपदा जलकर राख हो रही है। आग लगने से लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है। जंगलों में जीव-जंतु जलकर मर रहे हैं। जंगलों में आग लगने का सिलसिला सोमवार को भी जारी रहा, जिससे लाखों रुपए की वन संपदा जलकर स्वाह हो गई। जानकारी के मुताबिक घुमारवीं उपमंडल के तहत पेहड़वीं के चीड़ व खैर के जंगल में अचानक आग लग गई। आग देखते ही देखते चारों ओर फैल गई। रिहायशी इलाका साथ में होने के कारण लोगों को मकानों के जलने का भय सताने लगा। गनीमत यह रही कि जंगल की आग लोगों के घरों तक नहीं पहुंच पाई, नहीं तो यहां पर बड़ी घटना घट सकती थी। इस दौरान लोगों ने फायर चौकी घुमारवीं को फोन किया। दमकल कर्मियों ने मौके पर पहुंचकर बेकाबू हो रही आग पर काबू पाया तथा लाखों रुपए की संपदा को बचाया। तब जाकर लोगों ने राहत की सांस ली। आग से खैर तथा चीड़ के पेड़ जले हैं। उधर, तलाई से सटे बल्हसीणा (गोचर) के जंगल में सोमवार को अचानक आग भड़क गई। आग से जंगल में पांच हेक्टेयर में लगाई गई प्लांटेशन जलकर स्वाह हो गई। आग ने कई हेक्टेयर में वन संपदा को जला कर राख कर दिया। आग से लाखों रुपए के नुकसान का अनुमान है। आग पर फायर चौकी घुमारवीं के दमकल कर्मियों ने लोगों के सहयोग से काबू पाया। गनीमत यह रही कि आग रिहायशी इलाकों से पहुंचने से पहले ही बुझ दी गई, नहीं तो यहां पर काफी नुकसान हो जाता। आग पर फायर बिग्रेड के कर्मियों, वन विभाग के कर्मियों व लोगों के सहयोग से बुझाया गया। लेकिन, जब तक आग को कंट्रोल किया जाता, तब तक लाखों रुपए की वन संपदा जलकर स्वाह हो गई थी। वन विभाग के कर्मचारियों ने वन संपदा को हुए नुकसान की रिपोर्ट बनाना आरंभ कर दी है।

You might also like