सैकड़ों परिवारों को नहीं मिली किसान सम्मान निधि

संगड़ाह -केंद्र में भाजपा अथवा मोदी सरकार के दोबारा सत्तासीन होने के बाद बेशक किसान सम्मान योजना का बजट 75,000 करोड़ से बढ़ाकर 87,000 करोड़ किया जा चुका है, मगर संगड़ाह के सैकड़ों किसान परिवारों को पहले चरण में आवेदन करने के बावजूद आज तक इस योजना का लाभ नहीं मिल सका। उक्त योजना के तहत  फरवरी माह में आवेदन कर चुके रामस्वरूप, विपतानंद, अनिल कुमार, जगदीश, विनोद, कल्याण सिंह, कमल देव, भीम सिंह, यशपाल, चमन लाल, हरि चंद, दलीप सिंह, तारा दत्त व भीम सिंह आदि ने बताया कि चार माह में न तो उन्हें निर्धारित राशि मिली और न ही संबंधित कर्मचारियों व अधिकारियों द्वारा आवेदन खारिज होने संबंधी जानकारी दी गई। बयान में उन्होंने कहा कि उनके साथ आवेदन करने वाले अधिकतर अन्य किसानों के खाते में दो किस्तों में क्रमशः चार-चार हजार की राशि आ चुकी है। उन्होंने अपनी पंचायतों में सचिव तथा पटवारी की मौजूदगी में सभी वांछित दस्तावेजों के साथ प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के लिए आवेदन किया था। किसानों ने सरकार, प्रशासन तथा संबंधित कर्मचारियों की लापरवाही के चलते उन्हें उक्त योजना का लाभ न मिलने पर नाराजगी जताई। दो किसानों के अनुसार उन्होंने पीएम किसान हेल्पलाइन डेस्क के नंबर पर कॉल करने की कोशिश भी की, मगर बात नहीं हो सकी। योजना से वंचित किसानों ने कहा कि वह पिछले चार माह से उक्त राशि के इंतजार में बार-बार अपने बैंक खातों तथा मोबाइल मैसेज देख रहे हैं। क्षेत्र के गांव शिवपुर के गोपाल सिंह ने उन्हें किसान सम्मान योजना के तहत मात्र 500 रुपए की राशि मिलने की हैरानी जताई। एसबीआई में मौजूद उनके खाते में जमा हुई इस योजना की 500 रुपए की राशि को लेकर संबंधित बैंक कर्मियों तथा विकास खंड कार्यालय से भी कोई ठोस जवाब नहीं मिल सका। जानकारी के मुताबिक विकास खंड संगड़ाह की 41 पंचायतों के 500 से ज्यादा किसानों के पीएम किसान सम्मान योजना के तहत भरे गए ऑनलाइन आवेदन विभिन्न गलतियों के कारण रिजेक्ट हो चुके हैं। खंड विकास अधिकारी संगड़ाह रमेश शर्मा ने बताया कि उनके कार्यालय में पहुंचे 500 से अधिक रिजेक्टेड आवेदनों को दोबारा सही करके भेजा जा चुका है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव आचार संहिता के चलते गत दिनों उक्त राशि जारी नहीं हो सकी। सभी खारिज हुए आवेदन दोबारा सही कर भेजे जा चुके हैं तथा जल्द पात्र व्यक्तियों को निर्धारित राशि मिलने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि उक्त योजना के तहत अब दो हेक्टेयर जमीन की निर्धारित शर्त हटाए जाने के चलते शेष किसान भी जल्द संबंधित पंचायतों में आवेदन कर सकेंगे।

 

You might also like