स्कूली स्तर पर तैयार होंगे खिलाड़ी

खट्टर सरकार की विशेष पहल, विद्यालयों में मिलेगी खेल प्रतियोगिताओं की ट्रेनिंग

पंचकूला -हरियाणा के खिलाड़ी अब स्कूली स्तर पर  ही  तैयार  किए जाएंगे। स्कूली स्तर पर ही उनको खेल के मैदान में उनको राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं के लिए ट्रेनिंग की जाएगी। यह प्रयास स्कूल शिक्षा विभाग और जिला खेल और युवा मामले विभाग की ओर से सरकारी एवं प्राइवेट स्कूलों में किया जा रहा है, जिसके तहत जिला खेल और युवा मामले विभाग की ओर से अब स्कूली स्तर पर खिलाडि़यों को राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय खेल के लिए तैयार किया जाएगा। खेल नर्सरी हर उस स्कूल में बनाई जाएगी, जहां खिलाडि़यों की संख्या अधिक है। इसके लिए जिला खेल एवं युवा मामले विभाग की ओर से सभी स्कूलों से आवेदन भी मांगे है, जो अपने स्कूल में खेल नर्सरी बनाना चाहते हैं। अतिरिक्त मुख्य सचिव, स्कूल शिक्षा विभाग पीके दास का कहना है कि खेल नर्सरी के जरिए हम बच्चों को जिला एवं राज्य स्तर प्रतियोगिता के लिए तैयार करेंगे। इसके साथ ही उनको इन प्रतियोगिता में खेलने का मौका भी दिया जाएगा। खेल नर्सरी का मकसद स्कूली स्तर पर बच्चों की खेल प्रतिभा को और निखारना है।

ऑनलाइन ही करना होगा आवेदन

जिला खेल एवं युवा मामले विभाग की ओर से खेल नर्सरी के लिए ऑनलाइन आवेदन उपलब्ध करा दिया गया है, इसके तहत इच्छुक स्कूल को विद्यार्थियों की संख्या, स्कूल का स्तर, स्कूल में प्ले ग्राउंड, हाल, खेलने के लिए मैदान की संख्या, स्कूल की ओर से क्या बच्चों को खेल किट दी जाती है, आदि जानकारी देनी होगी। इसके अलावा उन्हें पांच साल का रिकॉर्ड भी बताना होगा। इच्छुक सरकारी एवं प्राइवेट स्कूल को खेल नर्सरी के निर्माण के लिए अपने पांच साल के खेल रिकार्र्ड की भी जानकारी देनी होगी। इसके अलावा स्कूल में कितने प्रशिक्षित कोच हैं, यह भी बताना होगा। आवेदन के बाद स्कूल की तमाम जानकारी एवं नियमों को पूरा करने के बाद खेल नर्सरी की मंजूरी विभाग की ओर से दी जाएगी। यह तमाम जानकारी इच्छुक सरकारी एवं प्राइवेट स्कूल प्रिंसिपल को जिला खेल एवं युवा मामले ऑफिसर को आवेदन के साथ देनी होगी। 

You might also like