स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को स्टाफ  नर्स बनाने का कड़ा विरोध

 नेरचौक—श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कालेज एवं अस्पताल नेरचौक में कार्यरत स्टाफ  नर्स एसोसिएशन द्वारा शुक्रवार को एक बैठक का आयोजन किया गया। एसोसिएशन अध्यक्षा मीनाक्षी ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि स्वास्थ्य कार्यकर्ताओंं को सरकार द्वारा दस प्रतिशत कोटा देकर स्टाफ  नर्से बनाने के निर्णय का कड़ा विरोध करते हैं। मात्र 18 महीने की ट्रेनिंग करने के पश्चात स्वास्थ्य कार्यकर्ताओंं को सिर्फमरीजों की देखभाल की ट्रेनिंग दी जाती है। इसलिए उन्हें स्टाफ  नर्स बनाना सही नहीं है। सरकार का यह निर्णय मरीजों की जान से खिलवाड़ करने वाला निर्णय है। स्टाफ  नर्सिंग एसोसिएशन सदस्यों ने मुख्यमंत्री को हाल ही में ज्ञापन सौंपते हुए अवगत करवाया था कि साढ़े तीन साल की ट्रेनिंग, बीएससी नर्सिंग व क्लिनिकल केयर ट्रेनिंग करने के पश्चात ही स्टाफ  नर्सों की नियुक्ति की जाती है। जबकि स्वास्थ्य कार्यकर्ता मात्र 18 महीने की ट्रेनिंग करने के पश्चात स्वास्थ्य कार्यकर्ता के तौर पर नियुक्त होती हैं। स्टाफ  नर्स के आर एंड पी नियमों के साथ कोई छेड़छाड़ न की जाए ताकि प्रदेश के लोगों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान की जा सके। इस अवसर पर नर्सिंग संघ की सुनीता भल्ला, मीना, सावित्री, नितु, आशा, समिक्षा सहित अन्य सदस्यों ने भाग लिया।

You might also like