हंसराज रघुवंशी के तरानों पर झूमेगा सोलन

राज्य स्तरीय शूलिनी मेले की पहली दो सांस्कृतिक संध्याएं पहाड़ी-फिल्मी कलाकारों के नाम

सोलन –शूलिनी मेला की सांस्कृतिक संध्या में इस बार दर्शक पहाड़ी तरानों पर झूमेंगे। 21 जून से आयोजित होने वाले राज्य स्तरीय शूलिनी मेले की पहली दो सांस्कृतिक संध्याएं पहाड़ी एवं फिल्मी कलाकारों के नाम रहेगी। सांस्कृतिक संध्याओं का मुख्य आकर्षण सोलन जिला के उभरते कलाकार हंसराज रघुवंशी होंगे। उपायुक्त सोलन एवं शूलिनी मेला कमेटी के अध्यक्ष विनोद कुमार ने बुधवार को सोलन में पत्रकार वार्ता में कहा कि  मेले का शुभारंभ विधानसभा अध्यक्ष डा. राजीव बिंदल माता शूलिनी की पालकी को कंधे पर उठाकर विधिवत रूप से करेंगे। दूसरी सांस्कृतिक संध्या में उद्योग मंत्री वीरेंद्र कंवर मुख्य अतिथि होंगे, जबकि तीसरी एवं अंतिम सांस्कृतिक संध्या में सामाजिक न्याय अधिकारिता व सहकारिता मंत्री डा. राजीव सहजल बतौर मुख्यातिथि के रूप में शिरकत करेंगे। डीसी ने कहा कि पहली सांस्कृतिक संध्या में गीता भारद्वाज, विक्की चौहान, दूसरी सांस्कृतिक संध्या में कृतिका तनवर, हंसराज रघुवंशी और अनुज शर्मा तथा तीसरी सांस्कृतिक संध्या में पूरन शिवा के अलावा पंजाबी कलाकार सतविंद्र सरताज मुख्य कलाकार के रूप में दर्शकों का मनोरंजन करेंगे। ठोडा नृत्य भी मुख्य आकर्षण का केंद्र होगा। इसके अलावा पहली बार कवि सम्मेलन व पशु प्रदर्शनी का भी आयोजन होगा।

सीएम नहीं करेंगे शुभारंभ

इस बार शूलिनी मेले का शुभारंभ मुख्यमंत्री नहीं करेंगे। यह पहला अवसर है जब मेले के शुभारंभ में प्रदेश के मुख्यमंत्री शिरकत नहीं करेंगे।

500 पुलिस कर्मचारी होंगे तैनात

मेले में सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के लिए खाकी भी पूरी तरह से तैनात रहेगी। वर्दी एवं बिना वर्दी के करीब 500 पुलिसकर्मी  मेले के दौरान डयूटी देंगे।

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर रैली

मेले की पूर्व संध्या पर सोलन शहर में बेटी बचाव, बेटी पढ़ाओ के तहत एक विशाल जागरूकता रैली निकाली जाएगी।   स्लोगन को 15 हजार, दूसरे नंबर पर 13 हजार एवं तीसरे नंबर पर रहने वाले को 11 हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा।

स्पीकर में बजेगा स्वच्छता संदेश

मेले के दौरान लगने वाले भंडारों के दौरान स्वच्छता व्यवस्था के प्रति आम लोगों को जागरूक करने के लिए इस बार नया तरीका अपनाया गया है। शहर में जगह-जगह स्पीकर लगाए जाएंगे। जिसमें स्वच्छता का संदेश चलता रहेगा। संदेश से पूर्व एक भजन भी चलेगा।

भिखारियों की खैर नहीं

मेले के दौरान लोगों को भिखारियों से कोई दिक्कत न हो इसके लिए प्रशासन इन्हें शहर से कहीं दूर जाकर गाडि़यों में छोड़ेगा। गौर रहे कि शूलिनी मेला से पूर्व ही शहर में भिखारियों का जमावड़ा लगा हुआ है। इसी को देखते हुए प्रशासन ने यह फैसला लिया है। इस मौके पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मधुसूदन शर्मा, अतिरिक्त उपायुक्त विवेक चंदेल, सहायक आयुक्त भानू गुप्ता व एसडीएम सोलन रोहित राठौर मौजूद रहे।

 

You might also like