हर्षवर्द्धन-मंगल पांडेय पर केस

चमकी बुखार को लेकर आम जनता को जागरूक न करने का आरोप

मुजफ्फरपुर -बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की संख्या में हर रोज इजाफा हो रहा है। सोमवार को इस बीमारी से मरने वाले बच्चों का आंकड़ा 100 के पार पहुंच गया। दूसरी ओर, इस मामले को लेकर मुजफ्फरपुर में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्द्धन और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। दोनों पर आरोप है कि उन्होंने जनता के बीच अक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम यानी चमकी बुखार को लेकर जागरूकता नहीं फैलाई। बता दें कि रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा. हर्षवर्द्धन मुजफ्फरपुर के अस्पताल में चमकी बुखार से पीडि़त बच्चों का हालचाल लेने आए थे। उन्होंने अधिकारियों के साथ अक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम के प्रकोप के बाद की स्थिति की समीक्षा की। डा. हर्षवर्द्धन ने श्रीकृष्णा मेडिकल कालेज और हास्पिटल का दौरा किया और डाक्टरों से बात की। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री के काफिले को काले झंडे दिखाए गए।

एनएचआरसी ने केंद्र-राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

नई दिल्ली। बिहार में चमकी बुखार से 100 से ज्यादा बच्चों की हुई मौत को राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने गंभीरता से लिया है। एनएचआरसी ने सोमवार को बिहार सरकार के मुख्य सचिव और केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव को नोटिस जारी करते हुए अक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) से बिहार के मुजफ्फरपुर में हुई मौतों पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। आयोग ने जापानी इंसेफलाइटिस के नियंत्रण एवं रोकथाम के कार्यक्रम को लागू करने के स्टेटस और मौजूदा हालात को संभालने के लिए उठाए गए दूसरे कदमों के बारे में भी जानकारी मांगी है। आयोग ने 4 हफ्तों में जवाब मिलने की उम्मीद जताई है।

जानलेवा बीमारी को लेकर चल रही थी मीटिंग स्वास्थ्य मंत्री ने पूछा, कितना विकेट हुआ

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। वीडियो में पांडेय अक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम को लेकर मंत्रियों और डाक्टरों के बीच चल रही मीटिंग के दौरान भारत-पाकिस्तान क्रिकेट स्कोर के बारे में पूछ रहे हैं। घटना की गंभीरता को देखते हुए मंत्री की ऐसी संवेदनहीनता को लेकर उनकी काफी आलोचना हो रही है। मीटिंग के दौरान मंगल पांडेय के दिमाग में भारत-पाकिस्तान के बीच मैनचेस्टर में चल रहा क्रिकेट मैच घूम रहा था। पांडेय मीटिंग के बीच में मैच के लेटेस्ट स्कोर के बारे में पूछने से अपने आपको नहीं रोक पाते हैं। स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे और केंद्रीय मंत्री हर्षवर्द्धन के साथ बैठे पांडेय पूछते हैं कि कितना विकेट हुआ था? इस पर कमरे में मौजूद कोई शख्स जवाब देता है, चार विकेट।

सो नहीं रहा था, चिंतन कर रहा था

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बिहार जाकर स्थिति का जायजा भी लिया। इसके बाद उन्होंने एक प्रेस कान्फ्रेंस भी की, जिसमें उन्होंने स्थिति के बारे में पत्रकारों को बताया। इसी प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान एक ऐसी तस्वीर सामने आई, जिसमें केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे सोते दिखे। इस तस्वीर के वायरल होने बाद लोगों ने उन्हें घेरना शुरू कर दिया। हालांकि अब अश्विनी चौबे ने इसे लेकर सफाई दी है और कहा है कि वह सो नहीं रहे थे बल्कि चिंतन- मनन कर रहे थे। उधर विपक्षी पार्टियों ने केंद्र और प्रदेश सरकार को घेरना शुरू कर दिया। विपक्षी पार्टी आरजेडी ने करारा प्रहार करते हुए कहा है कि बच्चे मर रहे हैं और मंत्रीजी जम्हाई ले रहे हैं। उधर, पप्पू यादव ने भी ट्वीट कर हमला बोला। पप्पू यादव ने लिखा कि सोइए हुजूर…ये बच्चे आपके नहीं हैं…इसमें हिंदू-मुसलमान की राजनीति नहीं हो सकती तो फिर जग कर आप क्या करेंगे…?

You might also like