हिमाचली उत्पादों का प्रभुत्व

 रूप सिंह नेगी, सोलन

यह गौरव की  बात है कि हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिला के दो उत्पादों ‘चुली तेल’ व ‘काला जीरा’ को ज्योग्राफिकल इंडिकेशन का टैग मिला है। इससे पहले कांगडा चाय, चंबा रूमाल, कुल्लू शॉल, किनौरी शॉल, कांगडा मिनियेचर पेंटिंग आदि को पेटेंट टैग मिला है, जिसके फलस्वरूप स्थानीय उत्पादकों को ख्याति मिली है। गौरतलब है कि जीआई टैग मिलने से पहले लुधियाना के सस्ते शॉल  बनाने वाले कुल्लू शॉल के नाम से शॉल बेचा करते थे और स्थानीय उत्पादन का नाम बदनाम होता था। गौरतलब है कि अब तक  हिमाचल के सात उत्पादों को काउंसिल फार साइंस, टेक्नोलॉजी एंड एनवायरनमेंट के पेटेंट सैल ने पंजीकृत किया है।

 

You might also like