हिमाचल के प्रोबेशनर आईएएस अधिकारी पहली परीक्षा में फेल

हिप्पा की परीक्षा में असफल होने पर नहीं लगेगी इन्क्रीमेंट

शिमला –हिमाचल काडर के प्रोबेशनर आईएएस अधिकारी अपने करियर की पहली परीक्षा में फेल हो गए हैं। हिमाचल लोक प्रशासन संस्थान (हिप्पा) में आयोजित क्रिमिनल तथा रेवेन्यू की परीक्षा में एक भी प्रोबेशनर आईएएस अफसर उत्तीर्ण नहीं हो पाया है। इस परीक्षा में पांच आईएएस अफसरों ने हिस्सा लिया था। इन दोनों विषयों में फेल हुए प्रोबेशनर आईएएस अफसरों को इन्क्रीमेंट नहीं लगेगी। हिप्पा में आयोजित इस परीक्षा में हिमाचल प्रदेश प्रशासनिक सेवाओं के 27 अफसर भी बैठे थे। रोचक है कि इनमें से भी सात अधिकारियों ने ही क्रिमिनल तथा रेवेन्यू का इम्तिहान पास किया है। अन्य 20 दोनों विषयों की परीक्षा में फेल हो गए हैं। जाहिर है कि हिमाचल प्रदेश के एचएएस अधिकारी बीडीओ पद पर सेवाएं देते हुए एसडीएम और एडीएम से अपना करियर आगे बढ़ाते हैं। इस दौरान बतौर एसडीएम एचएएस अफसरों को कोर्ट में रेवेन्यू तथा क्रिमिनल केस की सुनवाई करनी पड़ती है। बावजूद इसके एचएएस अधिकारी भी इन दो विषयों की परीक्षा को उत्तीर्ण नहीं कर पाए हैं। इसके विपरीत देश की टॉप क्रीम कड़ी प्रतिस्पर्धा के बाद यूपीएससी की परीक्षा उत्तीर्ण कर आईएएस बनते हैं। इसके बाद एक साल तक राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी मसूरी में इन्हें कड़ी कोचिंग दी जाती है। मसूरी में एक साल तक गहन अध्ययन के बाद प्रोबेशनर अधिकारियों को अगले एक साल के लिए संबंधित काडर वाले राज्यों में ट्रेनिंग करनी पड़ती है। इसी कड़ी में हिमाचल प्रदेश के पांच आईएएस प्रोबेशनर अफसरों ने हिप्पा में एक माह का प्रशिक्षण लिया है। इस ट्रेनिंग के बाद इन अधिकारियों को फील्ड में ट्रेनिंग के लिए भेजा गया था। इस दौरान आईएएस प्रोबेशनर अफसरों ने राजस्व से लेकर क्रिमिनल केसों को निपटाने वाली हर सीटों पर काम किया है। बावजूद इसके प्रोबेशनर आईएएस रेवेन्यू तथा क्रिमिनल केस के विषय में फेल हो गए हैं।

नौ विषयों में पास होना जरूरी

आईएएस प्रोबेशनर अफसरों को अपनी-अपनी ट्रेनिंग के दौरान विभिन्न नौ विषयों की परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है। इसके लिए साल में दो बार परीक्षा आयोजित की जाती है। इन सभी नौ विषयों को उत्तीर्ण करने पर ही आईएएस अफसरों को इन्क्रीमेंट व पदोन्नति का प्रावधान है।

सिर्फ सात एचएएस अफसर ही हुए पास

एक भी आईएएस-एचएएस सभी नौ विषय पास नहीं कर पाया। क्रिमिनल तथा रेवेन्यू  परीक्षा में सिर्फ सात एचएएस पास हुए। हालांकि इस श्रेणी के अधिकारी अन्य विषय में फेल जरूर हुए हैं। हालांकि आईएएस अफसर रेवेन्यू तथा क्रिमिनल को छोड़ दूसरे विषय में सफल रहे हैं।

You might also like