हिमाचल पर तूफान का कहर

तेज हवाओं के साथ ओलावृष्टि ने फसलों को पहुंचाया नुकसान

शिमला – हिमाचल प्रदेश में हाल ही में विभिन्न हिस्सों में तेज तूफान व भारी ओलावृष्टि ने सेब, आडू, प्लम, नाशपाती, बादाम, खुमानी, आम व अन्य फसलों को भारी क्षति पहुंचाई है। तेज तूफान से फसलों को लाखों का नुकसान पहुंचा है। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने इस पर गहरी चिंता व्यक्त की है। पार्टी ने सरकार से मांग उठाई है कि इस क्षति का तुरंत आकलन किया जाए। वहीं राज्य सरकार से मांग की है कि प्रभावित किसानों व बागबानों को उचित मुआवजा व राहत प्रदान की जाए। पार्टी के राज्य सचिवालय सदस्य संजय चौहान ने कहा कि  इस तेज तूफान व भारी ओलावृष्टि से प्रदेश के विभिन्न जिलोें कुल्लू, मंडी, शिमला, सिरमौर के साथ ऊना,सैंज, बंजार, आनी, रामपुर, ठियोग, नेरवा, बाघी, रोहड़ू, बंगाणा क्षेत्रों में आधे से अधिक फसल को नुकसान हुआ है। इसके चलते किसान व बागबान बेहद संकट में आ गए हैं, क्योंकि अधिक लागत होने के कारण अब किसानों व बागबानों का जीवन यापन कठिन हो जाएगा। अधिकांश किसान व बागबान कृषि व बागवानी के लिए ऋण लेकर ही इस कार्य को कर रहे हैं। इस नुकसान के कारण अब प्रभावित किसानों व बागबानों को यह ऋण लौटने में भी भारी परेशानी होगी। उन्होंने मांग उठाई है कि  सरकार इन प्रभावित क्षेत्रों में फसलों को हुई भारी क्षति का तुरंत सर्वेक्षण करवा कर प्रभावित किसानों व बागबानों को उचित मुआवजा प्रदान करे तथा मौसम आधारित फसल बीमा योजना में इन प्रभावित किसानों व बागबानों को मुआवजा राशि तुरंत प्रदान की जाए। सरकार द्वारा इनके ऋण को वापस लेने की प्रक्रिया पर भी रोक लगाई जाए, ताकि इन प्रभावित किसानों को राहत प्रदान की जा सके। यदि सरकार समय रहते इन मांगों को पूरा नहीं करती तो पार्टी किसानों व बागबानों को संगठित कर आंदोलन करेगी।

You might also like