हैल्थ को मांगे 1160 करोड़

विपिन परमार ने दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से की डिमांड

शिमला – हिमाचल की सेहत सुधारने के लिए प्रदेश सरकार ने 1160 करोड़ रुपए की मांग की है। तीन दिवसीय दिल्ली प्रवास के दौरान  परमार ने केंद्रीय मंत्री से विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों को मजबूत बनाने और चिकित्सा सेवाओं में सुधार के लिए 1160 करोड़ रुपए प्रदान करने का आग्रह किया। स्वास्थ्य मंत्री ने प्रदेश में सात अन्य ट्रॉमा केंद्र स्थापित करने के लिए तीन करोड़ रुपए की राशि प्रत्येक केंद्र के लिए मंजूर करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि रामपुर ट्रॉमा सेंटर के लिए चार करोड़ रुपए की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि तीन जिला अस्पताल जो कि मेडिकल कालेज में परिवर्तित किए गए थे तथा आईजीएमजी को मजबूत बनाने के लिए 800 करोड़ की मांग की और कहा कि राज्य में विभिन्न स्वास्थ्य संस्थान को भी 295 करोड़ रुपए के बजट प्रावधान की आवश्यकता है। उन्होंने राज्य के लोगों के लिए मुफ्त डायग्नोस्टिक सेवाएं सुविधा प्रदान करने के लिए 200 करोड़ के बजट की भी मांग की। उन्होंने केंद्रीय मंत्री को अवगत करवाया कि कंडाघाट की मिलावट जांच लैब को भी एफएसएसएआई के वर्तमान मानकों को पूरा करने के लिए 10 करोड़ रुपए के अनुदान की आवश्यकता है।

एंबुलेंस को धन दें

विपिन परमार ने डा. हर्षवर्धन को अवगत करवाया कि राज्य में भारत सरकार का राष्ट्रीय एंबुलेंस सेवा (एनएएस)-108 के तहत संचालित की जा रही कुल 198 एंबुलेंस में से 143 की परिचालन लागत वहन कर रही है। प्रदेश की कठिन भौगोलिक परिस्थिति के कारण एंबुलेंस की संख्या कम नहीं की जा सकती। उन्होंने अन्य 55 एंबुलेंस के संचालन के लिए धनराशि प्रदान करने का अनुरोध किया। डा. हर्षवर्धन ने मांगों को ध्यानपूर्वक सुना और उन पर गौर करने का आश्वासन दिया।

You might also like