12वीं तक की छात्राओं का रिकार्ड दें

हिमाचल के स्कूलों को एक हफ्ते का अल्टीमेटम

 शिमला —प्रदेश शिक्षा विभाग ने एचपी बोर्ड, सीबीएसई व आईसीएसई से मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों में नौवीं से 12वीं कक्षा में कितनी छात्राओं का प्रवेश हुआ है,  इस बारे में एक सप्ताह में जानकारी भेजने के निर्देश दिए गए हैं। प्रदेश उच्च शिक्षा विभाग ने इस बारे में सभी शिक्षा उपनिदेशकों को अधिसूचना जारी की है। इसके तहत निजी स्कूलों में पढ़ रही दस से 19 वर्ष तक की आयु की छात्राओं की सूची भेजने को कहा गया है। यह जानकारी सरकार द्वारा चलाई गई सशक्त महिला योजना के तहत मांगी गई है। योजना के अंतर्गत छात्राओं के लिए स्कूलों में सप्ताह में एक बार प्रार्थना सभा में व्यवहार परिर्वतन पर एक सत्र आयोजित करने, लड़कियों के लिए आत्म सुरक्षा के लिए विशेष शिविर, करियर काउंसिलिंग, स्वास्थ्य, स्वच्छता व योग शिविर आयोजित करने जैसी गतिविधियां आयोजित की जाती हैं। इसी संबध में छात्राओं के स्कूल में नामांकन की जानकारी मांगी गई है। शिक्षा विभाग की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि अगर इन निर्देशों की निजी स्कूल प्रबंधन गंभीरता नहीं दिखाते हैं, तो ऐसे में उन्हें नोटिस जारी किए जाएंगे। इसके साथ ही नियमों के तहत कड़ी कार्रवाई भी अमल में लाए जाने की योजना शिक्षा विभाग ने बनाई है। बता दें कि हिमाचल के शिक्षण संस्थानों में छात्राओं के साथ हो रहे छेड़खानी के मामले रोकने के लिए शिक्षा विभाग ने दस से 19 वर्ष की आयु तक की लड़कियों का आकंड़ा मांगा है। इसके तहत शिक्षा विभाग यह भी देखेगा कि स्कूलों में छात्राओं की सुरक्षा को लेकर महिला सशक्तिकरण जैसे कार्य्रकम भी आयोजित किए जाते हैं या नहीं। वहीं, निजी स्कूलों में भी सरकारी स्कूलों की तर्ज पर पोक्सो एक्ट के बारे में जानकारी दी जा रही है या नहीं, इसकी भी अपडेट ली जाएगी। दरअसल स्कूलों में छेड़खानी के बढ़ रहे मामले देखते ही निजी स्कूलों का ब्यौरा शिक्षा विभाग ने मांगा है।

You might also like