1238.75 लाख से चकाचक होंगी सड़कें

बिलासपुर —नाबार्ड यानी राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक ने हिमाचल की 33 परियोजनाओं को मंजूरी दे दी है। इनमें से 26 ग्रामीण सड़क परियोजनाएं एवं सात पुल परियोजनाएं हैं। गत 22 जून को आयोजित हुई परियोजना स्वीकृति की 180वीं बैठक में प्रदेश सरकार को 33 परियोजनाओं हेतु 11191.13 लाख रुपए की वित्तीय सहायता स्वीकृत की गई है। यह राशि शिमला, सिरमौर, चंबा, हमीरपुर, बिलासपुर, सोलन, मंडी, किन्नौर, लाहुल-स्पीति, ऊना व कांगड़ा जिला में स्वीकृत परियोजनाओं पर व्यय होगी। लोक निर्माण विभाग बिलासपुर के अधीक्षण अभियंता ईं. अजय गुप्ता ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि नाबार्ड द्वारा मंजूर उपरोक्त 33 परियोजनाओं में से बिलासपुर जिला की तीन सड़क परियोजनाएं शामिल की गई हैं। इसके तहत जिला की गुग्गा-घाट से गांव टिक्करी का 3.80 किलोमीटर लंबाई वाला लिंक रोड और झंडूता के तहत थुराण समलेटा ऋषिकेश वाया जवाह (6.54 किलोमीटर लंबाई) सड़क मार्ग का जीर्णोंद्धार होगा। इसके अलावा घुमारवीं क्षेत्र के तहत रोहल पुल से लैहड़ीसरेल-डुमैहर-लदरौर सड़क की अपग्रेडेशन होगी। 12.795 किलोमीटर लंबे इस सड़क मार्ग की अपग्रेडेशन कर इसे चकाचक किया जाएगा। एसई अजय गुप्ता ने बताया कि बिलासपुर जिला की तीनों सड़क परियोजनाओं के लिए कुल 1238.75 लाख रुपए मंजूर हुए हैं। इनमें से 284.16 लाख रुपए बिलासपुर, 399.17 लाख रुपए झंडूता और 555.42 लाख रुपए घुमारवीं के तहत स्वीकृत सड़क परियोजना में व्यय होंगे। बहरहाल नाबार्ड से यह राशि मंजूर होने से राज्य के ग्रामीण इलाकों में सड़कों का विस्तार होगा। हिमाचल में सड़कों के लिए वित्त वर्ष 2019-20 के लिए राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक ने 11191.13 लाख रुपए का पैकेज मंजूर कर लिया है। बता दें कि राज्य के लोक निर्माण विभाग ने इस बारे में कुछ समय पहले प्रदेश सरकार के माध्यम से एक प्रस्ताव नाबार्ड को भेजा था। यह प्रस्ताव नाबार्ड ने मंजूर कर लिया है। नाबार्ड की ओर से इस बारे में हिमाचल सरकार को मंजूरी दी गई है।

You might also like