17 महीने बाद समीरपुर में फिर लौटीं खुशियां

सुजानपुर—विधानसभा चुनाव 2017 के ठीक 17 महीने के बाद समीरपुर निवास पर एक बार फिर से खुशियों ने दस्तक दी है। वीरानी का अंधकार मिटाते हुए इस खुशी ने समीरपुर निवास को एक बार फिर से गुलजार कर दिया है। इसके साथ ही जो मंत्रियों, विधायकों के काफिले समीरपुर निवास की तरफ जाने से कन्नी काटते थे अब एक बार फिर से समीरपुर पहुंचना शुरू हो गए हैं। समीरपुर निवास जहां पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल परिवार सहित विराजमान हैं अब इस निवास को देश के राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के निवास स्थान से भी जाना जा रहा है। विधानसभा चुनाव 2017 में 18 दिसंबर को हुई मतगणना के बाद जो परिणाम निकल कर बाहर आए थे, उसके बाद समीरपुर निवास पर वीरनी छा गई थी। पूरे जिला हमीरपुर में मातम का माहौल बन गया था, लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने उस बुरे वक्त को सही संतुलन समझदारी सूझबूझ के साथ निकाला और किस तरह से एक बार फिर समीरपुर लोगों के दिलों पर छा जाए। हर तरफ समीरपुर का नाम हो, इस बात को मन में ठानते हुए बेटे के प्रचार-प्रसार में जुट गए। अगर अनुराग ठाकुर की जीत में हमीरपुर संसदीय क्षेत्र के लोगों का सबसे बड़ा हाथ है, तो उस हाथ को अनुराग की तरफ बढ़ाने में सबसे बड़ा योगदान उनके पिता पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का रहा है, जिन्होंने लोकसभा चुनाव के भाजपा प्रत्याशी एवं अपने बेटे अनुराग ठाकुर के लिए दिन-रात एक करते हुए बंपर प्रचार किया और रूठे हुए कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाते हुए सबको एक माला में पिरोकर फिर से भाजपा को सुजानपुर विस क्षेत्र में जीवित कर दिया। खैर 17 महीने के बाद एक बार फिर से पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल एवं सांसद वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर के निवास स्थान समीरपुर में खुशियों का माहौल बना है और बधाइयां देने वालों का तांता लगातार बढ़ रहा है, जब से सांसद की जीत हुई है और अब जब मोदी मंत्रिमंडल में सांसद को वित्त राज्य मंत्री बनाया गया है, तब से बधाइयां देने वालों की संख्या में भी डबल इजाफा हुआ है। पूरा प्रदेश और सांसद के पूरे देश से चाहने वाले समीरपुर निवास स्थान पहुंच रहे हैं और अपने-अपने तरीके से सांसद एवं उनके पिता प्रेम कुमार धूमल को उनकी माता शीला धूमल को उनके छोटे भाई और अरुण धूमल को बधाइयां देने में लगे हुए हैं।

You might also like