30 मीटर हो सकती है मंडी पठानकोट फोरलेन की चौड़ाई

धर्मशाला –  जे एंड के व चीन बार्डर को जोड़ने वाले सुरक्षा की दृष्टि से महत्त्वपूर्ण पठानकोट-मंडी-लेह राष्ट्रीय मार्ग की पूर्व निर्धारित चौड़ाई कम की जा सकती है। भू-स्खलन सहित पहाड़ी राज्यों में आ रही अन्य तकनीकी दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए जल्द ही एनएचएआई नई डायरेक्शन जारी करने वाली है। पूर्व में फोरलेन के लिए चौड़ाई 40 से 45 मीटर तक रखी गई थी, लेकिन बरसात के दिनों में बढ़ रहे लहासों व लोगों के घरों के खतरे सहित अन्य तकनीकी पहलुओं को देखते हुए अब मध्यम प्राथमिकता वाले फोरलेन में कुछ तबदीली लाई जा सकती है, जिसके तहत पहाड़ी या अन्य स्थानों पर इसकी चौड़ाई करीब 30 मीटर करने का प्लान है। हालांकि लो प्राथमिकता वाले फोरलेन के कार्य रुक सकते हैं। इतना ही नहीं, बढ़ते ट्रैफिक एवं समय की मांग ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय सड़क मार्ग विभाग ने नए प्रस्तावित फोरलेन में एनएच के तहत चलने वाले कार्यों को भी पूर्व की तरह जारी रखने के निर्देश दिए हैं। विभाग के पास पहुंची तकनीकी रिपोर्ट देखते हुए केंद्रीय कार्यालय ने प्रस्तावित फोरलेन परियोजनाओं में आंशिक फेरबदल करने के निर्देश दिए हैं, जिसके तहत हिमाचल की परियोजनाओं के काम की गति पर भी असर पड़ सकता है। नए प्लान के तहत काम शुरू करवाने से पहले केंद्र ने एनएच को सड़कों की हालत बेहतर बनाए रखने और आवश्यक कार्यों को तेज गति से चलाए रखने के निर्देश दिए हैं। फोरलेन के लिए 45 मीटर तक की चौड़ाई में अधिक भूमि का अधिग्रहण होने के कारण निर्माण कार्य से राशि क्लेम देने में ही खर्च हो रही है। इस वजह से भी पुरानी योजनाएं रिव्यू की जा रही हैं, जिससे आवश्यकता से अधिक धन लुटाने के बजाय आवश्यकता अनुसार ही भूमि अधिग्रहण किया जाए और बाईपास सहित ऐसे विकल्प पर ध्यान दिया जाए।

डबल पुल से सुधार

पठानकोट-मंडी मुख्य मार्ग पर मटौर, गगल और कोटला में सिंगल पुल होने के कारण घंटों जाम लगता था, लेकिन अब सभी जगह डबल पुल की व्यवस्था होने से हालात में बड़ा सुधार हुआ है। इस मार्ग पर अब शाहपुर व पुहाड़ा के मध्य बने खौली पुल पर जाम जैसे हालात बन रहे हैं, जिसका समाधान भी जल्द होने वाला है। गगल में नए पुल का कार्य कंप्लीट होने के साथ ही वहां के वैली ब्रिज को खौली पुल पर स्थानातंरित कर दिया जाएगा, जिसके बाद करीब सभी मुख्य पुलों पर हालात सामान्य बन जाएंगे। इस मार्ग पर लदवाड़ा हनुमान मंदिर के पास भी पिछले कई महीनों से लहासा गिरने से सड़क मार्ग आधा रह गया है। अब उसका कार्य भी जल्द शुरू हो जाएगा।

You might also like