आतमा प्रोजेक्ट को मिला डेढ़ करोड़

शिमला —शिमला जिला के किसानों व बागबानों के लिए राहत भरी खबर है। आतमा परियोजना के तहत जिला में विभिन्न गतिविधियों के संचालन के लिए केंद्र सरकार द्वारा वर्ष 2019-20 के लिए 1 करोड़ 66 लाख 53 हजार रुपए की कार्ययोजना स्वीकृत की गई है। अतिरिक्त उपायुक्त अपूर्व देवगन ने आतमा परियोजना की जिला शासी परिषद की बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी। बैठक में जिला कार्य योजना को शासी परिषद सदस्यों द्वारा अनुमोदित भी किया गया। उन्होंने कहा कि यह राशि जिला में कृषि संबंधी विकासात्मक गतिविधियों विशेष रूप से पद्म श्री सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए उपयोग की जाएगी, ताकि किसानों द्वारा स्वास्थ्यवर्द्धक खाद्यान्नांे का उत्पादन किया जा सके। उन्होंने परियोजना के तहत ज्यादा से ज्यादा फॉर्म स्कूलों को स्थापित करने के आवश्यकता पर बल दिया, जिससे किसानों को प्रशिक्षण प्रदान कर निपूण किया जा सके। उन्होंने कहा कि किसान समुदाय आतमा परियोजना द्वारा संचालित विभिन्न गतिविधियों का भरपूर लाभ उठा सके, इसके लिए प्रचार-प्रसार प्रशिक्षण व जागरूकता शिविरों को बड़े पैमाने पर आयोजित करने की आवश्यकता है। उन्होंने आतमा परियोजना के सभी मदों को सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती के तहत क्रियान्वित करने के निर्देश दिए। प्रशासन का दावा है कि इससे अधिक से अधिक किसान जहरमुक्त कृषि खाद्यान्न उत्पन्न करने में सक्षम हो सकेंगे। आतमा परियोजना के निदेशक डा. आरएस कंवर ने बताया कि जिला के 335 किसानों द्वारा पद्म श्री सुभाष पालेकर की अध्यक्षता में उद्यानिकी एवं वाणिकी विश्वविद्यालय सोलन में छह दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में भाग लिया गया। उन्होंने कहा कि इस शिविर में किसानों द्वारा सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती के संबंध में विस्तृत जानकारी प्राप्त की। उन्होंने बताया कि प्राकृतिक खेती संसाधन भंडारण के लिए सरकार द्वारा प्रति 50 हजार रुपए की राशि का सहायता प्रावधान प्रतिखंड किया गया है, जिसके तहत 5 लाख, 50 हजार रुपए की राशि वितरित की जाएगी। बैठक में कृषि, पशुपालन, उद्यान, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण मत्स्य, उद्योग तथा अन्य संबद्ध विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

खेती की उपज रिपोर्ट भेजने के निर्देश

जिला कृषि विभाग ने प्राकृतिक खेती उत्पाद के विपणन व विस्तार के लिए कृषि मंडी उपज एवं विपणन ढली में दुकान के प्रावधान के लिए शीघ्र रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। वहीं, ये आदेश दिए हैं कि अभी तक प्राकृतिक खेती के तहत जो उपज आ रही है, उसका भी ब्यौरा भेजा जाए।

30 किसानों को मिलेंगे उत्कृष्ट पुरस्कार

जिला में कृषि क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए 30 किसानों को उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार प्रदान किए जा रहे हैं, जिसके तहत प्रति किसान 10 हजार रुपए की नकद राशि व प्रशस्ति पत्र प्रदान किए जाएंगे। यह जानकारी भी जिला कृषि विभाग की बैठक में दी गई।

You might also like