एचपीयू में पहली बार छह महीने का कोर्स

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शुरू कर रहा नया सर्टिफिकेट कोर्स

शिमला – हिमाचल प्रदेश धर्मशाला विश्वविद्यालय में अब विद्यार्थियों के लिए छह माह का सर्टिफिकेट कोर्स शुरू किए जा रहे हैं। इसके लिए जल्द ही पाठ्यक्रम का मसौदा तैयार किया जा रहा है। छात्रों को इस सत्र से ही यह कोर्स पढ़ाया जाएगा। इसके लिए पाठ्यक्रम को शैक्षणिक समितियों से अनुमोदित कर दिया गया है। बता दें कि देश में पहली बार प्राच्य भारतीस विद्या कोर्स शुरू किए जा रहे हैं। इससे पहले भारत में इस तरह के कोेर्स शुरू नहीं किए गए हैं। यह कोर्स दलाई लामा के सहयोग से शुरू किया जा रहा है। दलाई लामा ने प्राच्य भारतीय विद्या का पाठ्यक्रम में मुख्य प्रेरणा स्रोत की भूमिका निभाई है। हिमाचल प्रदेश सरकार के शिक्षा विभाग की अनुमति के बाद ही प्रदेश विश्वविद्यालय ने पाठ्यक्रम का अंतिम स्वरूप निर्धरित कर इसे स्वीकृति प्रदान की है। इस पाठ्यक्रम का मुख्य उद्देश्य भारतीय युवाओं को विविध प्राचीन भारतीय ज्ञान पर (संस्कृतियों को समझाना व मानव और प्रकृति के मध्य समन्वय स्थापित करने में) उन्हें सहयोग प्रदान करना है। इस पाठ्यक्रम से युवाओं को जहां अपने मन की प्रवृत्तियों को समझने में मदद मिलेगी, वहीं आधुनिकता की इस दौड़ में मानवीय मूल्यों की उपयोगिता को समझकर उन्हें अपने व्यावहारिक जीवन में उतारने में भी मदद मिलेगी। यह पाठ्यक्रम युवाओं को प्राचीन भारतीय ज्ञान-विज्ञान को, आधुनिक संदर्भ में समझने के प्रयास के साथ उन्हें अपने बेहतर भविष्य की स्वर्णिम पृष्ठभूमि तैयार करने की दिशा में भी मदद करेगा। इस पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए छात्र कोर्स से संबंधित जानकारी एचपीयू की वेबसाइट से उपलब्ध कर सकते हैं।

कोर्स के लिए 12वीं पास जरूरी

इस कोर्स में प्रवेश पाने  के लिए छात्र को कक्षा बारहवीं की शैक्षणिक योग्यता रखी गई है। इस सत्र  के लिए केवल 30 सीटें रखी गई हैं।  वहीं, अगले सत्र में इस कोर्स के प्रति युवाओं की रुचि व इसकी सफलता को देखते हुए इसमें डिप्लोमा तथा उच्चतर डिप्लोमा पाठ्यक्रम भी संचालित किया जाएगा। साथ ही इसे अन्य महाविद्यालयों में भी लागू किया सकता है। 

एमबीबीएस-बीडीएस काउंसिलिंग के अंतिम दिन पहुंचे 754 अभ्यर्थी

शिमला। हिमाचल प्रदेश में स्थित मैडीकल व डेंटल कालेजों में प्रवेश के लिए एचपीयू में पांच जुलाई से शुरू होकर 11 जुलाई सोमवार को समाप्त हो गई। सोमवार को एबीबीएस व बीडीएस की काउंसलिंग का अंतिम दिन था। इस दौरान 2251 व 3104 रैंक के उम्मीदवारों की काउंसिलिंग प्रक्रिया पूरी की गई। काउंसिलिंग प्रक्रिया में 754 उम्मीदवारों ने  भाग लिया। एक हफ्ते तक चली इस काउंसिलिंग प्रक्रिया में प्रदेश के सभी सरकारी व प्राइवेट डेंटल कालेजों की सीटें फुल हो चुकी हैं। काउंसिलिंग के अंतिम दिन एमएमसी कुमारहट्टी कालेज में मैनेजमेंट की सीटें लगभग फुल हो चुकी हैं। साथ ही  डेंटल कालेज का स्टेट कोटा भरा जा रहा है। हालांकि अभी भी कई उम्मीदवारों को वेटिंग लिस्ट में रखा गया है। यह वेटिंग लिस्ट 25 से 28 जुलाई तक जारी की जाएगी।

You might also like