ऑनलाइन से किनारा…नहीं हो पाई चौगान की नीलामी

चंबा—अंतरराष्ट्रीय मिंजर की व्यापारिक गतिविधियों के लिए चंबा के चार चौगानों की नीलाम करने की ऑनलाइन टेेंडर प्रक्रिया को ठेकेदारों के रूचि न दिखाने के चलते फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। सोमवार को जिला प्रशासन की ओर से चंबा के चार चौगानों को लेकर मांगे गए ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया में महज तीन और चार नं के लिए ही दो- दो टेंडर हासिल हुए, जबकि चौगान नबंर- एक और दो के लिए किसी भी ठेकेदार ने टेंडर नहीं भरा। जिला प्रशासन ने अब दोबारा से चौगानों के लिए आनलाइन टेंडर मंगवाने का फैसला लिया है। जानकारी के अनुसार जिला प्रशासन ने अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेले के दौरान शहर के चौगान नबंर-एक से लेकर चार को नीलाम करने के लिए आनलाइन टेंडर मांगे थे, जिसके तहत पंद्रह जुलाई को आनलाइन टेंडर खोले जाने थे। सोमवार को मिंजर मेला तहबाजारी उपसमिति की संयोजक एवं एसडीएम सदर दीप्ति मंढोत्रा व डीएसपी हेडक्वार्टर अजय कुमार की मौजूदगी में आनलाइन टेंडर खोले गए, जिसमें चौगान नबंर-एक और दो के लिए किसी भी ठेकेदार ने टेंडर नहीं भरा। चौगान नं तीन और चार के लिए दो- दो टेंडर ठेकेदारों द्वारा भरे गए थे, मगर कायदे के मुताबिक तीन से कम टेंडर होने के चलते चौगान नं तीन और चार भी  नीलाम नहीं हो पाए।

सिरे नहीं चढ़ पाई प्रक्रिया

एसडीएम सदर दीप्ति मंढोत्रा ने बताया कि सोमवार को मिंजर मेला की व्यापारिक गतिविधियों के लिए चंबा के चार चौगानों को नीलाम करने की प्रक्रिया सोमवार को सिरे नहीं चढ़ पाई है। उन्होंने बताया कि चौगानों को नीलाम करने के लिए मांगे गए आनलाइन टेंडर एक और दो के लिए कोई आवेदन नही मिला है, जबकि चंबा चौगान नं तीन व चार के लिए महज दो- दो आवेदन हासिल हुए।

पौने दो करोड़ रुपए का राजस्व जुटाने का लक्ष्य

इस वर्ष जिला प्रशासन ने चंबा के चार चौगानों को नीलाम करके करीब पौने दो करोड़ रुपए का राजस्व जुटाने का लक्ष्य रखा है, जो कि गत वर्ष की तुलना में पांच फीसदी अधिक है। इसके तहत चंबा चौगान नं एक का आरक्षिम मूल्य एक करोड़ छह लाख पांच हजार, चौगान नं दो का 39 लाख छह हजार, चौगान नं तीन का नौ लाख और चौगान नं चार का आरक्षित मूल्य 21 लाख रुपए तय किया है। इस आरक्षित मूल्य के अलावा ठेकेदार को 18 फीसदी जीएसटी अलग से देनी होगी।

You might also like