किन्नौर में बांटी पुरानी दालें

पैकिंग डेट अक्तूबर 2018 का राशन मिलने से ग्राहक खफा, लोगों ने सरकार से की जांच की मांग

रिकांगपिओ -इन दिनों किन्नौर के सभी सरकारी रिटेल शोपो से एक्सपायरी दालें उपभोगताओं को दिए जाने का मामला उजागर हुआ है। बताया जाता है कि यह सिलसिला बीते कई दिनों से चल रहा है। शुक्रवार को किन्नौर जिला के शुदारंग पंचायत क्षेत्र के उपभोक्ता निशाए संजीव कुमार ने जब रिकांगपिओ स्थित दी कोठी सोसाइटी से अपने राशन कार्ड पर खाद्य सामग्री लेकर  घर पहुंचने के बाद देखा तो दालों पर पैकिंग डेट अक्टूबर 2018 अंकित पाया। उन्होंने बताया कि इसी सोसाइटी से अन्य उपभोगताओं को भी यही दालें धड़ल्ले से दी जा रही थी। जानकर बताते है कि किन्नौर के अन्य सोसाइटी में भी इसी तरह एक्सपायरी दालें इन दिनों लोगों को धड़ल्ले से दी जा रही है। जब इस बारे डीएफसी किन्नौर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि इस बारे हमे जानकारी नही है। यदि ऐसा है तो इंस्पेक्टर को सोसाइटी भेज कर छानबीन की जाएगी। गलत पाया जाता है तो तुरंत एक्सपायरी दालों को वापिस भेजी जाएगी। उधर पूर्व उप प्रधान शुदारंग राज किशोर पांगटा ने बताया कि इस तरह डेट एक्सपायर वाली दालें उपभोगताओं को देकर सरकार लोगों के स्वास्थ से खिलवाड़ कर रही है। उन्होंने कहा कि कोठी सोसाइटी में इस से पूर्व  भी रेत वाला आटा उपभोक्ताओं को वितरित करने का मामला उजागर हुआ था। उन्होंने कहा कि इस तरह किन्नौर के 61 उचित मूल्य की सरकारी दुकानों से एक्सपायरी खाद्य वस्तुएं उपभोगताओं को वितरित कर यहां के 20452 राशन कार्ड धारकों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। उन्होंने सरकार से  ऐसे मामलों पर उच्च स्तरीय जांच करने की भी मांग की है अन्यथा जनजातीय क्षेत्रों में रह रहे बोली बाली जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

You might also like